Sunday , January 21 2018

पाकिस्तानी ख़ातून शाहिदा ने अपने हिंदुस्तानी भाई पंकज को राखी बांधी

पाकिस्तानी शहरी शाहिदा ख़लील की ख़ुशियों का उस वक़्त कोई ठिकाना नहीं था जब उसे हिंदुस्तान के सफ़र का मौक़ा मिला ताकि वो हरदा में मौजूद एक हिंदु शख़्स को राखी बांध सके।

पाकिस्तानी शहरी शाहिदा ख़लील की ख़ुशियों का उस वक़्त कोई ठिकाना नहीं था जब उसे हिंदुस्तान के सफ़र का मौक़ा मिला ताकि वो हरदा में मौजूद एक हिंदु शख़्स को राखी बांध सके।

वे अपने भाई मान‌ती है। शाहिदा ख़लील हिंदुस्तान के सफ़र के लिए गुजिश्ता पाँच सालों से कोशां थी। 45 साला शाहिदा की ये कोशिश आख़िर कामयाब हुई और कल वे हरदा पहुंची और पंकज बाफना की कलाई पर राखी बांधी जो शाहिदा के कज़न का दोस्त है। इस मौके पर मीडिया से बात करते हुए शाहिदा ख़लील ने कहा कि वो गुजिश्ता पाँच साल से वीजा पाने के लिए कोशां थी और बिलआख़िर तीन रोज़ पहले उसे वीज़ा जारी कर दिया गया।

उसने कहा कि इसका ख़ानदान 30 साल पहले पाकिस्तान चले गए थे इसके चचा ने हरदा में ही रहने को तर्जीह दी। बचपन में वो अक्सर हरदा आया करती थी लेकिन गुजिश्ता तवील अर्सा से वो हिंदुस्तान नहीं आई थी। पंकज शाहिदा के कज़न दिलीप ख़ान का दोस्त है और वो अक्सर-ओ-बेशतर यानी हर साल रक्षा बंधन के मौके पर शाहिदा को हिंदुस्तान का दौरा करने के लिए हमेशा मदऊ किया करता था लेकिन इस‌ साल शाहिदा को बिलआख़िर हिंदूस्तान का दौरा करने का मौक़ा मिल ही गया।

46 साला पंकज ने कहा कि शाहिदा बहन ने ना सिर्फ़ उसकी कलाई पर एक सगी बहन की तरह राखी बांधी बल्कि तोहफ़े के तौर पर लार्ड गणेश की एक मूर्ती भी दी। पंकज की वालिदा इंदू बाला ने कहा कि शाहिद और पंकज जिस तरह भाई बहन की तरह रहते हैं, वो दूसरों के लिए एक मिसाल है। वो दुआ करती रहती हैं कि हिंद-ओ-पाक के ताल्लुक़ात भी ख़ुशगवार होजाए।

TOPPOPULARRECENT