पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने TV पर दिखने वाले भारतीय सीरियल्स और फिल्मों पर लगाई पाबंदी

पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने TV पर दिखने वाले भारतीय सीरियल्स और फिल्मों पर लगाई पाबंदी

पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया था. अब पाक की सुप्रीम कोर्ट ने स्थानीय प्राइवेट टीवी चैनलों पर भारतीय फिल्में, सीरियल्स, टीवी शोज समेत सभी तरह के भारतीय टीवी कार्यक्रमों पर पाबंदी लगा दी है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शीर्ष अदालत ने बीते मंगलवार को लाहौर हाईकोर्ट के आदेश को खारिज कर दिया और संघीय सरकार के 2016 के स्थानीय चैनलों पर भारतीय कार्यक्रमों के प्रसारण पर प्रतिबंध लगाने वाली नीति को फिर से बहाल कर दिया.

पाकिस्तानी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया रेगुलेटरी अथॉरिटी (पीईएमआरए) ने 19 अक्टूबर 2016 को स्थानीय टीवी चैनलों पर भारतीय सामग्री पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया था.

सुप्रीम कोर्ट में हुई सुनवाई के दौरान पीईएमआरए की तरफ से पेश हुए वकील ने बताया कि साल 2017 में लाहौर हाईकोर्ट ने यह प्रतिबंध हटा लिया था, क्योंकि सरकार ने इस पर कोई आपत्ति नहीं जताई थी. हालांकि, बाद में पीईएमआरए ने फैसले को शीर्ष अदालत में चुनौती दी थी.

पीईएमआरए की दलील सुनने के बाद शीर्ष अदालत ने लाहौर हाईकोर्ट के फैसले को खारिज कर दिया और संघीय सरकार की साल 2016 वाली नीति को फिर से बहाल कर दिया. इसके तहत स्थानीय टीवी चैनलों पर भारतीय सामग्री का प्रसारण नहीं किया जा सकता.

गौरतलब है कि पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद भारत की जवाबी कार्रवाई से बौखलाई पाकिस्तान के सूचना एवं प्रसारण मंत्री फवाद चौधरी ने देश में भारतीय फिल्मों के साथ-साथ ‘मेड इन इंडिया’ विज्ञापनों के बहिष्कार की घोषणा की थी.

पुलवामा हमले के बाद भारतीय फिल्म इंडस्ट्री ने पाक कलाकारों को भारत में काम नहीं देने का बात कही थी. यही नहीं, कई भारतीय कलाकारों ने पाक कलाकारों के साथ काम नहीं करने की बात का समर्थन भी किया था.

Top Stories