Sunday , September 23 2018

पाकिस्तान को आख़िर क्या सबूत चाहीयॆ?

मुंबई २३ नवंबर (पी टी आई) मुंबई दहश्तगर्द हमलों के ताल्लुक़ से कोई शवाहिद फ़राहम न करने हिंदूस्तान पर आइद करदा इल्ज़ामात और पाकिस्तान के मौक़िफ़ पर शदीद नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए पब्लिक प्रासीक्यूटर उज्जवल निकम ने आज ये जानना चाहा कि आ

मुंबई २३ नवंबर (पी टी आई) मुंबई दहश्तगर्द हमलों के ताल्लुक़ से कोई शवाहिद फ़राहम न करने हिंदूस्तान पर आइद करदा इल्ज़ामात और पाकिस्तान के मौक़िफ़ पर शदीद नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए पब्लिक प्रासीक्यूटर उज्जवल निकम ने आज ये जानना चाहा कि आख़िर पाकिस्तान को मज़ीद क्या सबूत चाहीए जिन से ये साबित किया जाय कि दहश्तगर्द तंज़ीम लश्कर-ए-तुयेबा ने ख़ुद उन के मुल्क में ये साज़िश तैय्यार की है।

उन्होंने पैनल मुबाहिसा में हिस्सा लेते हुए कहा कि हकूमत-ए-पाकिस्तान यही कहते आ रही है कि हम ख़ातिरख़वाह सबूत फ़राहम नहीं कर रहे हैं लेकिन वो ये बात समझने से क़ासिर हैं कि आख़िर पाकिस्तान को ऐसे क्या सबूत चाहीए जबकि ये साबित होचुका है कि ये साज़िश हिंदूस्तान में नहीं बल्कि पाकिस्तान में तैय्यार की गई थी ।

पाकिस्तान ही में मख़सूस दिन और मख़सूस मुक़ाम पर हमला का फ़ैसला किया गया। चुनांचे पाकिस्तान को चाहीए कि वो साज़िशी मवाद हिंदूस्तान से हासिल करने के बजाय ख़ुद अपने मुल्क में तलाश करॆ। उन्हों ने कहा कि दहश्तगर्द हमला में वाहिद बच जाने वाले अजमल क़स्साब को हवाला करने से दहश्तगर्दी का मसला हल नहीं होगा ।

इस के बरअक्स इस हमला का मंसूबा तैय्यार करने वाले शख़्स का पता चलाते हुए क़ानूनी कार्रवाई की जानी चाहीए और सख़्त से सख़्त सज़ा यक़ीनी बनाई जानी चाहीए । अजमल क़स्साब ने ख़ुद एतराफ़ किया है कि लश्कर-ए-तुयेबा के हाफ़िज़ सईद ने उसे हमला की हिदायत दी थी।

TOPPOPULARRECENT