Sunday , December 17 2017

पाकिस्तान को हिंद का सख़्त पयाम, वीज़ा सहूलत मुअत्तल

नई दिल्ली, 16 जनवरी: (पी टी आई) पाकिस्तान को एक सख़्त पयाम में वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने आज कहा कि हिंदूस्तानी सिपाही का वहशियाना अंदाज़ में सर कलम किए जाने के बाद मामूल के हालात बरक़रार नहीं रह सकते हैं जैसा कि हिंदूस्तान ने आमद पर वीज़ा

नई दिल्ली, 16 जनवरी: (पी टी आई) पाकिस्तान को एक सख़्त पयाम में वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने आज कहा कि हिंदूस्तानी सिपाही का वहशियाना अंदाज़ में सर कलम किए जाने के बाद मामूल के हालात बरक़रार नहीं रह सकते हैं जैसा कि हिंदूस्तान ने आमद पर वीज़ा की सहूलत को रोक दिया और तमाम 9 पाकिस्तानी हाकी खिलाड़ियों को वतन वापस भेज दिया है।

हिंदूस्तानी इक़दाम 8 जनवरी के वाक़िया पर सयासी जमातों में बढ़ती हुई ब्रहमी के दरमियान सामने आया है जबकि पाकिस्तानी सिपाहियों ने जम्मू-ओ-कश्मीर के मेंधर इलाक़ा में लाईन आफ़ कंट्रोल को उबूर कर के दो सिपाहियों को क़त्ल करने के बाद उनकी नाशों के टुकड़े कर दिए थे।

इस मसला पर अपनी ख़ामोशी तोड़ते हुए डाक्टर सिंह ने वीज़ा सहूलत को मुअत्तल कर देने के फैसले की ये कहते हुए मुदाफ़अत की कि इस वहशियाना हरकत के बाद पाकिस्तान के साथ मामूल का मुआमला नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि इस जुर्म के ज़िम्मेदारों को कैफ़र किरदार तक पहुंचाना होगा और उम्मीद ज़ाहिर की कि पाकिस्तान इस बात को समझता है।

जब ये निशानदेही की गई कि पाकिस्तान एल ओ सी के पार हमले के बारे में तरदीदी रुख़ इख़तियार किए हुए है, डाक्टर सिंह ने कहा कि हम कोशिश करते रहेंगे। हुकूमत के पास दस्तयाब मुख़्तलिफ़ रास्तों के ताल्लुक़ से पूछने पर उन्होंने कहा कि उन पर खुले आम बात नहीं की जा सकती है।

यौम अफ़्वाज इस्तिक़बालीया के मौक़ा पर अपने सख़्त लहजा के बाद डाक्टर सिंह ने सदर जमहूरीया परनब मुखर्जी से मुलाक़ात करते हुए उन्हें सूरत-ए-हाल से वाक़िफ़ कराया। उन्होंने क़ौमी सलामती मुशीर शिव शंकर मेनन को ये ज़िम्मेदारी भी सौंपी की पार्लियामेंट में अपोज़ीशन के क़ाइदीन सुषमा स्वराज और अरूण जेटली को ब्रीफिंग दी जाये।

हिंदूस्तान पाकिस्तान के सीनीयर शहरियों को आमद पर वीज़ा की तवील अर्सा से ताख़ीर की शिकार सहूलत पर आज अमल दरआमद करने वाला था लेकिन ख़ामोशी से उसे गैर मुय्यना मुद्दत ( अनिश्चित कालीन) के लिए मुअत्तल कर दिया गया। ये सहूलत अटारी ‍ वाघा सरहद को पैदल उबूर करते हुए आने वाले 65 साल से ज़ाइद उम्र के पाकिस्तानी शहरियों के लिए लागू की जाने वाली थी।

हुकूमती ज़राए ने कहा कि ये फैसला कई एजेंसियों की जानिब से पाकिस्तानी शहरियों को पेश की जाने वाली सहूलतों के बारे में वज़ाहतें तलब किए जाने के बाद किया गया। आमद पर वीज़ा की सहूलत सितंबर 2012 में हिंदूस्तान और पाकिस्तान के दरमियान दस्तख़त शुदा नए वीज़ा मुआहिदा के तहत मंज़ूर की गई ताकि एतेमाद साज़ी इक़दामात के तौर पर सरहद पार सफ़र में नरमी लाई जा सके।

सिपाहियों के पाकिस्तानी क़ातिलों को सज़ा का मुतालिबा

दरि असना हिंदूस्तान ने आज दो हिंदूस्तानी सिपाहियों की एल ओ सी के पास पाकिस्तानियों के हाथों बहीमाना हलाकत के ज़िम्मेदारों को सज़ा देने का मुतालिबा किया और ज़ोर दिया कि वो इस ज़िमन में निहायत पुरअज़म और संजीदा है और ये कि बाहमी रवाबित बदस्तूर गैर मुतास्सिर नहीं रहेंगे।

वज़ीर-ए-आज़म के सख़्त रिमार्कस के थोड़ी देर बाद वज़ीर उमूर ख़ारेजा सलमान खुर्शीद ने एक सरकारी बयान पढ़ते हुए इंतिबाह दिया कि इस वाक़िया के बारे में पाकिस्तान की दीदा दिलेरी से तरदीद नज़रअंदाज नहीं की जाएगी और बाहमी ताल्लुक़ात मुतास्सिर नहीं हो सकते।

TOPPOPULARRECENT