Friday , December 15 2017

पाकिस्तान डिफेंस फोरम का भारतीय लड़की की फर्जी ट्वीट करने पर ट्विटर अकाउंट सस्पेंड

नई दिल्ली : पाकिस्तान डिफेंस फोरम डिफेंस पीके.कॉम के ट्विटर हैंडल और फेसबुक पेज को दिल्ली यूनिवर्सिटी की एक एक्टिविस्ट की मॉर्फ फोटोग्राफ शेयर करने के बाद सस्पेंड कर दिया गया। डिफेंस पीके पाकिस्तान की सेनाओं से जुड़ी और सेनाओं के पक्ष में कई तरह की जानकारियां साझा करने वाला मंच है। डिफेंस पीके ने कुलभूषण जाधव से जुड़ी एक झूठी जानकारी को शेयर किया था।

शनिवार को डिफेंस पीके ने दिल्ली यूनिवर्सिटी की छात्रा कंवलप्रीत की एक फोटोग्राफ को शेयर किया था। कंवलप्रीत भारत में मॉब लिन्चिंग की घटनाओं पर जून 2017 में चले कैंपेन नॉट इन माय नेम का हिस्सा थीं। एक स्टूडेंट और एक्टिविस्ट ने अपने ट्विटर हैंडल से हाथों में प्लेकार्ड लिए हुए अपनी एक तस्वीर पोस्ट की थी। इस तस्वीर पर लिखा था, ”मैं एक भारतीय नागरिक हूं जो अपने धर्मनिरपेक्ष संविधान के साथ खड़ी हूं। मैं मुस्लिमों के सांप्रदायिक मॉब लिंचिंग के खिलाफ लिखूंगी।’ डिफेंस पीके पर पाक सेना के कई रिटायर्ड मिलिट्री पर्सनल हैं और यह सेनाओं की कोई आधिकारिक वेबसाइट है।

डिफेंस पीके से कवलप्रीत कौर की इस तस्वीर को भारत के खिलाफ मॉर्फ कर के इस्तेमाल किया और कंवलप्रीत के संदेश को बदल दिया। छेड़छाड़ की गई तस्वीर में में लिखा था, ‘मैं भारतीय हूं लेकिन मुझे भारत से नफरत है, क्योंकि यह औपनिवेशिक इकाई है जिसने नागा, कश्मीर, मणिपुरी आदि राज्यों पर कब्जा किया है।’ यह पूरा मामला उस समय सामने आया जब जेएनयू स्टूडेंट्स यूनियन की वाइस प्रेसीडेंट शेहला राशिद की नजर इस इससे जुड़ी एक ट्वीट पर पड़ी।

पाकिस्तान अपने प्रोपेगेंडा में कामयाब हो पाता उससे पहले ही कंवलप्रीत ने इस प्रोपेगेंडा की शिकायत ट्विटर से कर दी। जिस पर कड़ी कार्रवाई करते हुए ट्विटर ने पाक डिफेंस नाम के इस ट्विटर हैंडल को बंद कर दिया।

TOPPOPULARRECENT