पाकिस्तान: पीड़िता के पिता के सामने दी गई इमरान अली को फांसी

पाकिस्तान: पीड़िता के पिता के सामने दी गई इमरान अली को फांसी
Click for full image

पाकिस्तान में चर्चित ज़ैनब हत्या कांड के अपराधी इमरान अली को फांसी दे दी गई है। इमरान अली को उसकी दरिंदगी के लिए चार बार सज़ाए मौत, एक बार उम्र क़ैद और सात साल की जेल की सज़ा सुनाई गई थी।

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के क़सूर शहर में यौत उत्पीड़न का निशाना बनाने के बाद क़त्ल कर दी जाने वाली आठ साल की बच्ची ज़ैनब के मुकद्दमे के अपराधी इमरान अली को लाहौर की कोट लखपत जेल में फांसी दे दी गई।

अधिकारियों का कहना है कि इमरान अली को बुधवार की सुबह साढ़े पांच बजे फांसी पर लटकाया गया, फांसी दिए जाने के समय ज़ैनब के पिता अमीन अंसारी भी मौजूद थे।

इमरान अली को अदालती कार्यवाही के बाद चार बार मौत की सज़ा, एक बार उम्र क़ैद और सात साल जेल की सज़ा सुनाई गई थी।

जेल के अधिकारियों ने इमरान अली की लाश उसके परिवार के हवाले कर दी है जिसे वह अंतिम संस्कार के लिए क़सूर ले गए हैं।

ज़ैनब के पिता ने जेल के बाहर मीडिया से अपराधी की फांसी के बारे में बात करते हुए कहा कि उसका अंजाम उन्होंने अपनी आंखों से देखा है, उसे फांसी पर लटकाया गया और आधे घंटे तक फांसी के फंदे पर झूलने दिया गया।

ज्ञात रहे कि ज़ैनब के पिता ने अपराधी को खुले आम फांसी देने की मांग की थी लेकिन लाहौर हाई कोर्ट ने यह मांग स्वीकार नहीं की।

पाकिस्तान में ज़ैनब हत्य कांड ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था और अब इमरान अली को फांसी दिए जाने के बाद यह घटना एक बार फिर चर्चा का विषय बनी है।

सोशल मीडिया पर यह सवाल उठाए जा रहे हैं कि इमरान अली जैसे कई लोग आज भी समाज में खुले घूम रहे हैं उनके ख़िलाफ़ कब कार्यवाही की जाएगी।

पाकिस्तान में बच्चों और बच्चियों के यौन शोषण की ख़बरें आती रहती हैं। बच्चों के अधिकारों के लिए काम करने वाली एनजीओ साहिल की रिपोर्ट के अनुसार जारी वर्ष के पहले छह महीनों में बच्चों के अपहरण, उनके उत्पीड़न और रेप सहित अलग अलग अपराधों 2300 से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं जबकि 57 बच्चों को बलात्कार के बाद क़त्ल कर दिय गया।

Top Stories