Tuesday , December 19 2017

पाकिस्तान में अक़लीयती मज़हबी यादगारों के अहया का मंसूबा

पाकिस्तान का मंसूबा है कि एक सिख समाधि और हिंदू मंदिर का तहफ़्फ़ुज़ और अहया अमल में लाया जाए, जो लाहौर क़िला के करीब वाक़े दो अहम तारीख़ी यादगारें हैं। मीडिया रिपोर्ट ने आज कहा कि इस ज़िमन में 22 मिलियन रुपये का प्रोजेक्ट ज़ेरे ग़ौर है।

पाकिस्तान का मंसूबा है कि एक सिख समाधि और हिंदू मंदिर का तहफ़्फ़ुज़ और अहया अमल में लाया जाए, जो लाहौर क़िला के करीब वाक़े दो अहम तारीख़ी यादगारें हैं। मीडिया रिपोर्ट ने आज कहा कि इस ज़िमन में 22 मिलियन रुपये का प्रोजेक्ट ज़ेरे ग़ौर है।

अख़्बार डॉन के मुताबिक़ महाराजा रणजीत सिंह के रुहानी रहनुमा भाई वस्ती राम की समाधि और मुग़ल शहनशाह औरंगज़ेब के दौर की झिंगुर शाह सवित्रा की मंदिर वो यादगारें हैं जिन की बहाली का मंसूबा तैयार किया जा रहा है।

TOPPOPULARRECENT