Monday , December 18 2017

पाकिस्तान में बैन-उल-अक़वामी क्रिकेट की बहाली केलिए इक़दामात

कराची 18 नवंबर (ए एफ़ पी) पाकिस्तान में बैन-उल-अक़वामी क्रिकेट की बहाली के लिए संजीदा कोशिशों का बाक़ायदा आग़ाज़ करदिया गया है और इस सिलसिले में सह रुख़ी टूर्नामैंट के इनइक़ाद की तजवीज़ सामने आई है। तफ़सीलात के मुताबिक़ ईवंट का मेज़बान पा

कराची 18 नवंबर (ए एफ़ पी) पाकिस्तान में बैन-उल-अक़वामी क्रिकेट की बहाली के लिए संजीदा कोशिशों का बाक़ायदा आग़ाज़ करदिया गया है और इस सिलसिले में सह रुख़ी टूर्नामैंट के इनइक़ाद की तजवीज़ सामने आई है। तफ़सीलात के मुताबिक़ ईवंट का मेज़बान पाकिस्तान नहीं होगा ताहम वो बंगला देश और श्रीलंका के ख़िलाफ़ अपने मुक़ाबले पाकिस्तान में खेलेगा। इंटरनैशनल क्रिकेट कौंसल को इस टूर्नामैंट के हवाले से तजवीज़ देदी गई है। ताहम टूर्नामैंट का इनइक़ाद अप्रैल में एशिया कप से क़बल किया जाय या बाद में इस का फ़ैसला हनूज़ बाक़ी है।

दूसरी जानिब एक और मीडीया रिपोर्ट के बमूजब बंगला देश की क्रिकेट टीम के आइन्दा साल अप्रैल में दौरा-ए-पाकिस्तान के इमकानात पैदा होगए हैं ताहम इस सिलसिले में बंगला देश क्रिकेट के हुक्काम सैक्योरिटी के हवाले से क्लीयरैंस के मुंतज़िर हैं। बंगला देश क्रिकेट बोर्ड के एक अहम ओहदेदार ने कहाकि दौरा-ए-पाकिस्तान से क़बल हमें आई सी सी की जानिब से पाकिस्तान में सैक्योरिटी के तहफ़्फुज़ात और ख़दशात के हवाले से क्लीयरैंस दी गई तो बंगला देशी क्रिकेट टीम अप्रैल में पाकिस्तान जा सकती है।

मार्च 2009-ए- में लाहौर में सिरी लंकाई क्रिकेट टीम की बस पर हुए हमले और पाकिस्तान में दहश्तगर्दी के बाअज़ वाक़ियात से ख़ौफ़ के बाइस ग़ैर मुल्की टीमें पाकिस्तान आने से गुरेज़ कररही हैं जिस की वजह से लग भग पौने तीन साल से पाकिस्तान में आलमी क्रिकेट के मुक़ाबले नहीं होरहे हैं। दहश्तगर्दी के बाइस पाकिस्तान ग़ैर मुल्की टीमों के लिए ग़ैर महफ़ूज़ मुक़ाम बना हुआ है और ग़ैर मुल्की टीमें सैक्योरिटी ख़दशात के बाइस बदस्तूर पाकिस्तान आने से घबरा रही हैं।

TOPPOPULARRECENT