पाक- अमरीका ताल्लुक़ात बचाने मुशर्रफ़ का मुतालिबा

पाक- अमरीका ताल्लुक़ात बचाने मुशर्रफ़ का मुतालिबा

दुबई, 10 जनवरी (राईटर) अमरीका के साथ पाकिस्तान के ख़तरे से दो-चार ताल्लुक़ात को बचाने केलिए हंगामी इक़दामात की ज़रूरत है। इस ख़्याल का इज़हार साबिक़ सदर-ए-पाकिस्तान परवेज़ मुशर्रफ़ ने किया है।राईटर से बातचीत में कल उन्हों ने ये ऐल

दुबई, 10 जनवरी (राईटर) अमरीका के साथ पाकिस्तान के ख़तरे से दो-चार ताल्लुक़ात को बचाने केलिए हंगामी इक़दामात की ज़रूरत है। इस ख़्याल का इज़हार साबिक़ सदर-ए-पाकिस्तान परवेज़ मुशर्रफ़ ने किया है।राईटर से बातचीत में कल उन्हों ने ये ऐलान भी किया कि-वो अज़सर-ए-नौ सयासी तौर पर सरगर्म अमल होने केलिए जल्द ही वतन लौट रहे हैं। अमरीका और पाकिस्तान के ताल्लुक़ात में पिछले साल नवंबर में मज़ीद बोहरान उस वक़्त पैदा होगया था जब नाटो के हैली कापटरस और जंगी तय्यारों की एक कार्रवाई में 28 पाकिस्तानी फ़ौजी शेमाल मग़रिबी पाकिस्तान में मारे गए थे।

जनरल मुशर्रफ़ ने राईटर से बातचीत में कहा कि पाक । अमरीका ताल्लुक़ात इंतिहाई पस्त होगए हैं , जिस की वजह ये है कि एतिमाद की सख़्त कमी पैदा होगई है। मुशर्रफ़ ने कहाकि उन के नज़दीक बैन ममालिक ताल्लुक़ात दो मुल्कों के रहनुमाओं के बाहमी नौईयत के ज़ाती ताल्लुक़ात से ज़्यादा अहम होते हैं।

Top Stories