Sunday , July 22 2018

पिंजड़े में बंद परिंदों को आजाद कराते हैं अब्दुल जब्बार

सीवान : दुनिया में बहुत से ऐसे लोग हैं, जो तरह-तरह के शौक रखते हैं। हुसैनगंज थाने के मड़कन के रहने वाले हाजी अब्दुल जब्बार पेशे से तो कारोबारी हैं, लेकिन इनका एक अलग तरह का शौक है। अब्दुल जब्बार शिकारियों के पिंजड़ों में बंद परिंदों को खरीद कर उन्हें आजाद कराते हैं। पिंजड़ों में कैद परिंदों को आजाद कराने का शौक इनको करीब दस साल पहले हुआ। तब से लेकर आज तक ये करीब एक हजार से ज्यादा परिंदों को आजाद करा चुके हैं।

परिंदों को आजाद कराने में इनकी आमदनी का एक मोटा हिस्सा खर्च हो चुका है। इसके बावजूद इनके अहले खाना का इस नेक काम में मदद ही मिला है। अब्दुल जब्बार ने बताया कि जिस तरह किसी बेबस इनसान को मदद करने से दिल को खुशी होती है, उसी तरह शिकारियों की कैद से परिंदों को आजाद कराने में होती है।

ऐसी बात नहीं है कि अब्दुल जब्बार ने सिर्फ सस्ते बिकने वाले परिंदों को आजाद कराया है। बल्कि ये महंगे दाम में बिकने वाले परिंदों को बिना भी एक पल सोचे आजाद करा देते हैं। उन्होंने बताया कि परिंदों को कैद करके नहीं रखना चाहिए।

 

TOPPOPULARRECENT