Sunday , February 25 2018

पीएम मोदी के भाषण में पुराने वादों का कोई जिक्र नहीं- कांग्रेस

राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर जारी बहस पर कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा ने कहा कि आजादी के बाद पहली बार सबसे नीरस भाषण रहा। पुराने वादों का जिक्र नहीं, नए वादों की बात है। उन्होंने कहा कि राजनीति में आलोचना, वाद विवाद जरूरी है।

इसीलिए लोकसभा में पक्ष प्रतिपक्ष जरूरी है. देश में कांग्रेस मुक्त भारत की बात की जा रही है, गुजरात को मुक्त नहीं कर सके, देश को कैसे मुक्त करोगे। उन्होंने कहा कि हम पीएम से प्रमाण पत्र नहीं चाहते, पर हमारे अंदर संस्कार है कि हम कभी बीजेपी मुक्त भारत बनाने की बात नहीं करेंगे।

आनंद शर्मा ने कहा कि राष्ट्रपित के अभिभाषण में पिछले साढ़े तीन साल का हिसाब नहीं है। भाषण से ऐसा प्रतीत होता है कि सरकार की सोच है कि 2014 में जो वादे किए गए थे, वो सब पूरे हो चुके हैं।

सरकार के दावे जमीनी हकीकत को नकारते हैं. पिछले राष्ट्रपित के अभिभाषण प्रेरणाजनक होते थे। उम्मीद जगाते, युवाओं के भविष्य और बच्चों की बात होती थी। जबकि इस बार के अभिभाषण में योजनाएं कब पूरी होंगी जिक्र नहीं है।

उन्होंने कहा कि संविधान के मुताबिक अभी पांच साल के लिए सरकार आती है, आप अभी से ही 2022 के बात कर रहे हैं। आपकी गिनती कमजोर है। 2019 में लोग तय करेंगें कि 2022 का हिसाब कौन देगा। 2019 में आपकी शायद इच्छा पूरी न होगी।

आनंद शर्मा ने कहा कि बीजेपी सरकार की मंशा है कि उससे हिसाब मत मांगो। ये पहला अभिभाषण है जिसमें सुरक्षा हालात का जिक्र नहीं, विदेश नीति, कूट नीति का जिक्र नहीं।

चीन से क्या बात हुई, डोकलाम की समस्या सुधर गई, क्यों वहां निर्माण हो रहा है। नेपाल में क्या हो रहा है, देश चारो ओर से घिर रहा है, मालदीव में क्या हो रहा है। इस पर कोई बात नहीं कही गई।

TOPPOPULARRECENT