Saturday , June 23 2018

पी एल ओ में शमूलीयत से हम्मास का इत्तिफ़ाक़

क़ाहिरा 24 दिसमबर (एजैंसीज़) हम्मास ने तवील अर्सा से मुनक़सिम फ़लस्तीनी क़ियादत को मुत्तहिद करने की सिम्त एक अहम क़दम उठाते हुए तंज़ीम आज़ादी फ़लस्तीन में शमूलीयत से इत्तिफ़ाक़ करलिया है । हम्मास के लीडर ख़ालिद अलमशाल ने गुज़शत

क़ाहिरा 24 दिसमबर (एजैंसीज़) हम्मास ने तवील अर्सा से मुनक़सिम फ़लस्तीनी क़ियादत को मुत्तहिद करने की सिम्त एक अहम क़दम उठाते हुए तंज़ीम आज़ादी फ़लस्तीन में शमूलीयत से इत्तिफ़ाक़ करलिया है । हम्मास के लीडर ख़ालिद अलमशाल ने गुज़शता रोज़ एक कमेटी में शमूलीयत इख़तियार की, जो तंज़ीम आज़ादी फ़लस्तीन (पी एल ओ ) क़ियादत के इंतिख़ाबात की तैय्यारी करेंगे।

अगरचे ये इंतिख़ाबात मुनाक़िद होने केलिए एक तवीलअर्सा दरकार होगा लेकिन ख़ालिद मशाल के इस इक़दाम का मतलब ये हुआ कि अब वो अपनी हरीफ़ तंज़ीम फ़तह पार्टी के सरबराह और फ़लस्तीनी अथॉरीटी के महमूद अब्बास के साथ काम करेंगे। पी एल ओ दरअसल फ़लस्तीनी तहिरीक-ए-आज़ादी के लिए जद्द-ओ-जहद करनेवाली तमाम ग्रुपों की मादर तंज़ीम समझी जाती है ।

ये इक़दाम हम्मास और फ़तह के माबैन मुसालहत की सिम्त एक अहम पेशरफ़त समझा जा रहा है । दोनों तंज़ीमें एक दूसरे के ख़िलाफ़ सफ़ आरा थी और 2007-में हम्मास ने ग़ज़ा पट्टी अपना कंट्रोल क़ायम करलिया था। मुत्तहदा पार्लीमैंट के लिए ग़ज़ा और मग़रिबी किनारा में आइन्दा साल अलग अलग इंतिख़ाबात मुनाक़िद होंगे। तवक़्क़ो है के इंतिहा-ए-पसंद तंज़ीम इस्लामी जिहाद भी पी एल ओ में शमूलीयत का इरादा रखती है इस के लिए रमज़ान शलाह क़ाहिरा इजलास में शिरकत करेंगे।

TOPPOPULARRECENT