Monday , June 25 2018

पी लकशमया की सी बी आई के सामने कल हाज़री

हैदराबाद / आंधरा प्रदेश के वज़ीर इन्फ़ार्मेशन टेक्नोलोजी पुन्नाला लकशमया को सी बी आई ने सदर वाई एस आर कांग्रेस पार्टी वाई एस जगन मोहन रेड्डी से मुताल्लिक़ आमदनी से जयादा सम्पती केस के सिलसिले में यहां 7 जून को अपने सामने हाज़िरी के

हैदराबाद / आंधरा प्रदेश के वज़ीर इन्फ़ार्मेशन टेक्नोलोजी पुन्नाला लकशमया को सी बी आई ने सदर वाई एस आर कांग्रेस पार्टी वाई एस जगन मोहन रेड्डी से मुताल्लिक़ आमदनी से जयादा सम्पती केस के सिलसिले में यहां 7 जून को अपने सामने हाज़िरी के लिए बुलाया है।

एसा लग रहा है कि सिबीआइ पी लकशमया से उन गर्वनमेंट ओर्डरों (जी औज़) के बारे में दरयाफ़त करेगी जो 2004०9 के दौरान जारी किए गए जबकि वो स्वर्गीय‌ वाई एस राज शेखर रेड्डी की केबीनेट में बड़ी आबपाशी मंत्री थे। ये जी औज़ दरयाए कृष्णा से बाज़ समनट कंपनीयों को पानी देने कि बाबत‌ हैं, जिस के बाद इन कंपनीयों ने कड़पा एम पी के कारोबारों में सरमाये लगाए।

पी लकशमया उन 6 आंधरा प्रदेश मंत्रीयों में शामिल हैं, जिन्हें सुप्रीम कोर्ट ने मार्च में नोटिसें जारी करते हुए जगन के ख़िलाफ़ केस में उन के अहम‌ रोल के ताल्लुक़ से इल्ज़ाम के बारे में इन का मौक़िफ़ मालुम‌ किया था। सी बी आई ने अभी तक रियास्ती वज़ीर-ए-दाख़िला सबीता इंदिरा रेड्डी, वज़ीर माल धर्मना प्रसाद राउ से पूछताछ की जबकि इस ने साबिक़ वज़ीर आबकारी एम वेंकट रमणा राउ को वानपक प्रोजेकट में उन के अहम‌ रोल की पादाश में पिछ्ले माह गिरफ़्तार कर लिया।

ये नोटिसें नैलोर से ताल्लुक़ रखने वाले एक एडवोकेट की अर्ज़ी पर जारी कि गइ, जिस ने कहा था कि सी बी आई ने आई ए एस ऑफीसर और मंत्रीयों से पूछगछ नहीं की, जो 26 जी औज़ को जारी करने के लिए ज़िम्मेदार हैं।

पी लकशमया जो मौजूदा तौर पर ज़िला वरंगल के परकाल में आने वाले उप‌ चुनाव के लिए चुनावी मुहिम पर हैं, उन्हों ने कहाकि वो हिदायात के मुताबिक़ सी बी आई के सामने हाज़िर होंगे, ओर‌ ये कि मैंने क़ानून के मुताबिक़ काम किया है।

TOPPOPULARRECENT