Saturday , December 16 2017

पी वि नरसिम्हा राव‌ यादगार-ए-ज़माना नहीं रहे

साबिक़ वज़ीर-ए-आज़म पी वि नरसिम्हा राव‌ की जयंती तक़ारीब सरकारी तौर पर मनाने के एलान के बावजूद कई सरकारी मह्कमाजात ने जयंती तक़ारीब के एहतेमाम से गुरेज़ किया।

साबिक़ वज़ीर-ए-आज़म पी वि नरसिम्हा राव‌ की जयंती तक़ारीब सरकारी तौर पर मनाने के एलान के बावजूद कई सरकारी मह्कमाजात ने जयंती तक़ारीब के एहतेमाम से गुरेज़ किया।

नेकलेस रोड पर पी वि समाधि पर अगरचे सरकारी तौर पर तक़रीब मुनाक़िद की गई और अवाम की बड़ी तादाद में शिरकत को यक़ीनी बनाने के लिए इंतेज़ामात किए गए लेकिन वहां अवाम की तादाद तवक़्क़ो के मुताबिक़ नहीं थी।

नरसिम्हा राव‌ के बाज़ क़रीबी अफ़राद के अलावा अवाम ने शिरकत से गुरेज़ किया। मुख़्तलिफ़ मह्कमाजात के सरकारी मुलाज़िमीन जिन्हें शिरकत के लिए पाबंद किया गया था सिर्फ़ वही बादल नख़्वास्ता तक़रीब में शरीक रहे।

गवर्नर और चीफ़ मिनिस्टर की शिरकत के बावजूद मुंतज़मीन को अवाम को इकट्ठा करने में दुशवारी का सामना करना पड़ा। नेकलेस रोड पर मौजूद अफ़राद से ख़ाहिश की जा रही थी कि वो ख़ाली कुर्सीयों को पुर करें।

सरकारी अक़लियती इदारों में किसी इदारा ने भी नरसिम्हा राव‌ की जयंती नहीं मनाई। इस बारे में सेक्रेट्रियट के बाज़ आला ओहदेदारों से इस्तिफ़सार किया गया तो उन का कहना था कि उन्हें नरसिम्हा राव‌ से कोई दिलचस्पी नहीं।

बाज़ ओहदेदारों ने कहा कि उन्हें ख़ुद इस बात पर हैरत हैके टी आर एस हुकूमत ने किस तरह सरकारी तौर पर ये तक़रीब मनाने का फ़ैसला किया है।जबकि हुकूमत भी अच्छी तरह जानती हैके नरसिम्हा राव‌ के नाम से अक़लियतों में नाराज़गी का माहौल है।

TOPPOPULARRECENT