Friday , December 15 2017

पुरअसरार खजाने से उठेगा पर्दा, खुदाई शुरू

उन्नाव, 18 अक्तूबर: एएसआई ( Archaeological Survey of India) ने आज सुबह से उन्नाव जिले के डौंडिया खेड़ा किले में खुदाई का काम शुरू कर दिया संत शोभन सरकार ने राजा राव रामबख्श सिंह के किले में 1000 टन सोने के दबे होने की बात कही है। संत शोभन सरकार ने ख्वाब देखा

उन्नाव, 18 अक्तूबर: एएसआई ( Archaeological Survey of India) ने आज सुबह से उन्नाव जिले के डौंडिया खेड़ा किले में खुदाई का काम शुरू कर दिया संत शोभन सरकार ने राजा राव रामबख्श सिंह के किले में 1000 टन सोने के दबे होने की बात कही है। संत शोभन सरकार ने ख्वाब देखा है कि किले के अहाते में खजाना दबा हुआ है संत के दावे को परखने के लिए Archaeological Survey of India आज से खुदाई के काम में लग गया है पुलिस ने खुदाई की जाने वाली जगह की नाकेबंदी कर दी है |

जुमेरात को Archaeological Survey of India की खुदाई के ढंग और इसमें ज़्यादा वक्त लगने की बात पर संत शोभन सरकार नाराज हो गए शोभन चाहते थे कि फौज दस घंटे में खुदाई कराकर सारा खजाना बाहर निकाल लिया जाए, जबकि Archaeological Survey of India) ग कुदाल, गैंती और फावड़ा वगैरह के भरोसे खुदाई की तैयारी में जुटा रहा |

वज़ीर ए आला के इशारे लेकर आए रियासत के वज़ीर सुनील सिंह यादव ने किले का मुआयना करने से पहले शोभन सरकार के आश्रम में उनसे मुलाकात की शोभन सरकार ने नाराजगी जताई कि तकनीक के इस दौर में कुदाल, गैंती, फावड़े से खुदाई का कोई मतलब नहीं है इसमें तो डेढ़ महीने से ज्यादा का वक्त लग जाएगा फौज की मदद से दस घंटे में खुदाई कराई जाए, क्योंकि उसके बाद फतेहपुर के आदमपुर, कानपुर के बिठूर और परेड में खुदाई की जानी है सारी दुनिया की नजरें लगी हुई हैं, इसलिए देर करना ठीक नहीं है |

वज़ीर ए आला के नुमाइंदे ने उन्हें बताया कि Archaeological Survey के लिए खुदाई से निकलने वाला खज़ाना विरसे से कम नहीं है, इसलिए वह अपने ढंग से काम कर रहा है इस बातचीत के दौरान संत के करीबी राजेंद्र तिवारी ने यहां तक कह दिया कि इंतेज़ामिया नहीं मानेगा तो आज से वे जेसीबी लगवाकर खुदाई शुरू करा देंगे, क्योंकि आम लोग और ज़्यादा इंतेजार नहीं कर सकते शाम के वक्त शोभन सरकार की पहल पर रुकावट दूर हुई और सरकार की खाहिश के मुताबिक काम होगा शुरु में 30 जरब 30 फुट के इलाके में खुदाई होगी और इसके लिए फावड़े, कुदाल, गैंती वगैरह का इस्तेमाल होगा.

उन्नाव के डौंड़िया खेड़ा में खजाने की खुदाई के दौरान सेक्युरिटी को लेकर अभी पुलिस हेड्क्वार्टर के सतह पर कोई पहल नहीं हुई है आइजी आरके विश्वकर्मा ने बताया कि एएसआइ की मांग पर ही ऐसे तकरीबात में सेक्युरिटी दी जाती है और अभी तक एएसआइ ने सेक्युरिटी नहीं मांगी है फिलहाल पुलिस सुप्रीटेंडेंट उन्नाव के सतह पर सेक्युरिटी के इंतेज़ामात किये गये है |

उन्नाव के डौड़िया खेड़ा में खजाने की खोज को लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक मुफाद ए आम्मा की अर्जी दाखिल हुई है इसमें सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में खुदाई कराने की मांग की गई है |

एडवोकेट एमएल शर्मा की ओर से दाखिल की गई दरखास्त में कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट एक टीम की तश्कील करे, जिसकी निगरानी में खुदाई हो साथ ही खुदाई के काम को कंट्रोल करने के लिए वहां फौज के आफीसर तैनात किए जाएं दरखास्त में डौंडि़या खेड़ा की तारीख बताते हुए खजाना होने के बारे में मीडिया में आई खबरों का जिक्र किया गया है साथ ही साल 1974 की जयपुर की एक वाकिया का जिक्र किया गया है | जिसमें सड़क के रास्ते से जयपुर से खजाना दिल्ली लाए जाने की बात कही गई है ये ऑपरेशन 24 घंटे चला था लेकिन आज तक पता नहीं चला कि वह खजाना कहां गया |

दरखास्तगुजार का कहना है कि डौंडि़या खेड़ा से निकलने वाला 1000 टन सोने का खजाना कीमती है और उससे हिंदुस्तान की माली हालात मजबूत होगी इसलिए उसकी सेक्युरिटी के इंतेजाम बहुत जरूरी हैं शर्मा का कहना है कि वे जुमे के दिन जुमे की सुबह सुप्रीम कोर्ट से इस दरखास्त पर शीघ्र सुनवाई करने की दरखास्त करेंगे क्योंकि आज से ही खुदाई शुरू होने वाली है |

आदमपुर गांव के लोग यहां की सरज़मीन की गोद में छिपे खजाने की पहरेदारी में जुट गए हैं रात-दिन पहरेदारी की जा रही है रात में टार्च की रोशनी चमकती है, तो दिन में चरवाहों ने जिम्मेदारी संभाल रखी है |

बालू के रेत में छिपा खजाना तांत्रिक य कोई दूसराउड़ा न ले जाए, इसके लिए इंतेज़ामिया ने अभी तक कोई कदम नहीं उठाया है दूसरी ओर,गाँव वाले शोभन सरकार के दावे को झुठलाने वाले तांत्रिकों की कोशिशों पर पानी फेरने के लिए कमर कसे हुए हैं, रीवां के राजा के किले से लेकर आदमपुर घाट तक गांव वालों की पैनी नजर है यहां ज़्यादा तादाद में आने वाली गाड़ियों को गाँव वाले जांच के बाद ही जाने दे रहे हैं खजाने की हिफाज़त के लिए गांव वालों ने जी जान से जुटे हुए हैं |

गांव के मुलायम सिंह परिहार, योगेंद्र सिंह भदौरिया, रामकृष्ण त्रिपाठी, प्रमोद कुमार, रमाकांत त्रिपाठी, पप्पू, रमेश, शिव राखन कहते हैं कि गांव वालो की शोभन सरकार में पूरा यकीन है सेक्युरिटी को लेकर गांव वालों की तरफ से कोई लापरवाही नहीं बरती जा रही है गाँव वाले बताते हैं कि कुछ दिन पहले ही रात में खुदाई किए जाने की बात सामने आई थी, उसी समय सैकड़ों गाँव ब्रह्माशिला की ओर चल पड़े उसी वक्त किसी गांव वाले ने फायर कर दिया अब तो जब सारा मामला आलमी सतह पर मशहूर हो चुका है ऐसे में सेक्युरिटी करना हम सभी की जिम्मेदारी है |

TOPPOPULARRECENT