पुरानी रेट पर ही होगी जमीन की रजिस्ट्री

पुरानी रेट पर ही होगी जमीन की रजिस्ट्री
नये रेट के फेर में नौ माह से फंसे करीब एक हजार दरख्वास्त गुज़ार को हाइकोर्ट ने राहत दी है। अदालत ने रजिस्ट्रार दफ्तर में इन लटके दरख्वास्त गुज़ार के जमीन की रजिस्ट्री तीन माह के अंदर करने का हुक्म दिया है।

नये रेट के फेर में नौ माह से फंसे करीब एक हजार दरख्वास्त गुज़ार को हाइकोर्ट ने राहत दी है। अदालत ने रजिस्ट्रार दफ्तर में इन लटके दरख्वास्त गुज़ार के जमीन की रजिस्ट्री तीन माह के अंदर करने का हुक्म दिया है।

ये वैसे दरख्वास्त गुज़ार हैं, जिन्होंने 15 मई 2013 को नया एमवीआर लागू होने से एक-दो दिन पहले दरख्वास्त जमा कराये थे, मगर ज़्यादा भीड़ की वजह से वक़्त पर उनकी रजिस्ट्री नहीं हो सकी। एमवीआर लागू होने से पहले दरख्वास्त जमा कराने के बावजूद पुराने शरह पर रजिस्ट्री नहीं होने के चलते इनका मामला पेंडिंग हो गया था।

इसके चलते कुछ दरख्वास्त गुज़ार ने हाइकोर्ट में अपील की थी। इस पर 16 जनवरी 2014 को फैसला सुनाते हुए हाइकोर्ट ने जिला अपर रजिस्ट्री दफ्तर को तीन माह के अंदर इन दरख्वास्तों की रजिस्ट्री पुराने शरह पर करने का हुक्म दिया है।

Top Stories