Wednesday , December 13 2017

पुराने शहर में टी आर एस को मज़बूत बनाने की मुहिम

हैदराबाद के पुराने शहर को अब तक बड़ी सियासी पार्टीयों जैसे तेलुगु देशम और कांग्रेस की तरफ से यकसर नज़रअंदाज कर दिया गया था। लेकिन अब तेलंगाना राष्ट्रीय समीती ने पुराने शहर पर ख़ुसूसी तवज्जा देते हुए यहां अपनी बुनियादों को मज़बूत बन

हैदराबाद के पुराने शहर को अब तक बड़ी सियासी पार्टीयों जैसे तेलुगु देशम और कांग्रेस की तरफ से यकसर नज़रअंदाज कर दिया गया था। लेकिन अब तेलंगाना राष्ट्रीय समीती ने पुराने शहर पर ख़ुसूसी तवज्जा देते हुए यहां अपनी बुनियादों को मज़बूत बनाने की कोशिशों का आग़ाज़ कर दिया है।

ज़राए के मुताबिक़ टी आर एस ने पुराने शहर के इलाक़ों में रुकनीयत साज़ी मुहिम में शिद्दत पैदा करदी है जिस का ज़बरदस्त रद्द-ए-अमल देखा जा रहा है। अवाम में टी आर एस के ताल्लुक़ से जोश-ओ-ख़ुरोश इस बात का मज़हर हैके तेलंगाना में मुसलमानों को तरक़्क़ी देने चीफ़ मिनिस्टर के चन्द्रशेखर राव‌ और डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर मुहम्मद महमूद अली की मुशतर्का कोशिशों को पसंद किया जा रहा है।

रियासती काबीना में डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर की हैसियत से एम एलसी महमूद अली की शमूलीयत के बाद से ही मुसलमानों तक ये मज़बूत पयाम पहूँचा था कि चीफ़ मिनिस्टर चन्द्रशेखर राव‌ ना सिर्फ़ एक वाहिद सेक्युलर लीडर हैं बल्कि मुस्लिम तबक़ा को सियासी सतह पर बाइख़तियार बनाने में भी ईक़ान रखते हैं।

मुसलमानों को 12 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात देने का वादा और शादी मुबारक स्कीम के तहत शादी के वक़्त ग़रीब मुस्लिम लड़कीयों को फी कस 51 हज़ार रुपये देने के एलान से मुसलमानों के अंदर टी आर एसकी मक़बूलियत में इज़ाफ़ा हुआ है।

इस से वाज़िह होता है कि टी आर एस पुराने शहर के मुसलमानों के दिलों में घर कर रही है। टी आर एसने नए अरकान के शामिल करने के आलावा ख़ामोशी से एक पुरकशिश ऑप्रेशन का भी आग़ाज़ किया है जिस के तहत मजलिस के कारकुनों को पार्टी में शामिल होने की तरग़ीब दी जा रही है।

नाराज़ ग्रुपस भी टी आर एसकी मुहिम को पसंद कर रहे हैं। तक़रीबन एक हज़ार एम आई एम वर्कर्स 22 जनवरी को मुनाक़िद होने वाले एक प्रोग्राम में टी आर एस में शामिल होने का एलान करेंगे। टी आर एस लीडर रशीद शरीफ़ से रब्त पैदा करने पर उन्होंने तौसीक़ की के पुराने शहर के मुख़्तलिफ़ इलाक़ों से मुख़्तलिफ़ पार्टीयों के एक हज़ार वर्कर्स ने टी आर एस में शमूलीयत इख़तियार करने की हामी भरी है। ताहम उन्होंने उसकी तफ़सीली वज़ाहत नहीं की।

TOPPOPULARRECENT