Tuesday , January 16 2018

पुलिस और ओहदेदारों को दस्तूर का वफ़ादार होना ज़रूरी

पुलिस और नज़म-ओ-नसक़ के ओहदेदारों को किसी फ़र्द या अफ़राद का वफ़ादार होने के बजाय दस्तूर और क़ानून की हुक्मरानी का वफ़ादार होना चाहिए। गुजरात में बाज़ ओहदेदार नरेंद्र मोदी के वफ़ादार हैं। इसी लिए वो मोदी की गु़लामी करने के लिए किसी भी हद

पुलिस और नज़म-ओ-नसक़ के ओहदेदारों को किसी फ़र्द या अफ़राद का वफ़ादार होने के बजाय दस्तूर और क़ानून की हुक्मरानी का वफ़ादार होना चाहिए। गुजरात में बाज़ ओहदेदार नरेंद्र मोदी के वफ़ादार हैं। इसी लिए वो मोदी की गु़लामी करने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं।

इसी वजह से फ़रव‌री और मार्च 2002 में जो कुछ हुआ इंतिज़ामिया और पुलिस ओहदेदारों की कोताही का नतीजा था। इन ख़्यालात का इज़हार गुजरात के साबिक़ डी जे पी आर बी श्री कुमार ने यहां एक समेनार से ख़िताब करते हुए किया। गुजरात वाक़ियात का सच्च और सबक़ के उनवान से समेनार को राष्ट्रीय सेकूलर मंच में किया था जिस की सदारत साबिक़ डी जे पी एम पी और पंजाब के एस धुलवन् ने की।

वाज़िह रहे कि श्री कुमार के ख़िलाफ़ पंजाब हुकूमत इंतिक़ामी कार्रवाई भी की है। उन्हें ए डी जी से डी जी पर तरक़्क़ी देने से गुरेज़ किया गया। उन की पैंशन को भी रोक दिया गया है। उसके बाद‌ गुजरात हाइकोर्ट के अहकाम पर ये तरक़्क़ी दी गई और बाकी मुराआत दिए गए। धुलवन् ने कहा कि अगर नरेंद्र मोदी मुल्क के वज़ीर-ए-आज़म बन गए तो इससे क़ौम का इत्तिहाद पारा पारा होजाएगा।

उन्होंने श्री कुमार की ज़बर्दस्त सताइश की जिन्होंने नरेंद्र मोदी की ग़लत हुक्मरानी के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाई थी। उन्होंने उम्मीद‌ ज़ाहिर की कि आने वाली रियासतें इस पुलिस ओहदेदार की क़ुर्बानी को ख़राज पेश करेंगी। सेकूलर मंच कन्वीनर एल शंकर हर दीनीना ने कहा कि मोदी मुल्क पर आर एस एस नज़रिया को मुसल्लत करेंगे।

TOPPOPULARRECENT