Friday , September 21 2018

पुलिस बिल के तहत रियासती सयान्ती कमीशन का क़ियाम

जम्मू ,19 फ़रवरी: हुकूमत जम्मू-ओ-कश्मीर रियासती सयान्ती कमीशन क़ायम करेगी जिस के सरबराह चीफ़ मिनिस्टर होंगे। ये कमीशन रियासत में सयान्ती मंज़र नामे का जायज़ा लेगा और पालिसी रहनुमा या ना ख़ुतूत जो मुजव्वज़ा जय एंड के पुलिस बिल 2013 के तहत ह

जम्मू ,19 फ़रवरी: हुकूमत जम्मू-ओ-कश्मीर रियासती सयान्ती कमीशन क़ायम करेगी जिस के सरबराह चीफ़ मिनिस्टर होंगे। ये कमीशन रियासत में सयान्ती मंज़र नामे का जायज़ा लेगा और पालिसी रहनुमा या ना ख़ुतूत जो मुजव्वज़ा जय एंड के पुलिस बिल 2013 के तहत होंगे, ताय्युन करेगा। जय एंड के पुलिस बिल 2013 के मुसव्वदा के बमूजब हुकूमत इस क़ानून को नाफ़िज़ुल अमल होने के अंदरून 6 माह एक रियासती सयान्ती कमीशन क़ायम करेगी।

इमकान है कि ये बिल 28 फ़रव‌री से शुरू होने वाले रियासती असेम्बली के बजट इजलास के दौरान पेश किया जाएगा। कमीशन क़ानून के तहत अपने फ़राइज़ की अदायगी के सिलसिले में हुकूमत को मश्वरा देगा और मदद करेगा। सयान्ती मंज़र का जायज़ा लेगा और अंदेशों-ओ-तर्जीहात के शोबों की निशानदेही करेगा।

कमीशन के सदर नशीन चीफ़ मिनिस्टर होंगे। वज़ीरे दाख़िला या वज़ीरे मुम्लिकत बराए दाख़िला इस के नायब सदर नशीन होंगे। हाईकोर्ट के एक रिटायर्ड जज को चीफ़ जस्टिस जम्मू-ओ-कश्मीर हाईकोर्ट की जानिब से नामज़द किया जाएगा। चीफ़ सेक्रेटरी, महिकमा दाख़िला के इंतेज़ामी सेक्रेटरी, डी जी पी और तीन ग़ैर सरकारी अरकान बिशमोल एक ख़ातून इस के अरकान होंगे।

कमीशन अपनी रिपोर्ट रियासती हुकूमत को हर साल पेश करेगा जिसे एवान असेम्बली में भी पेश किया जाएगा। ये कमीशन पुलिस या नज़मो नसक़ आम्मा से मानूस माहिरीन की एक तीन रुकनी कमेटी का तक़र्रुर भी करेगा, ताकि हर साल पुलिस की कारकर्दगी का तख़मीना और तजज़िया किया जा सके।

मंसूबे का मुसव्वदा सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले की तामील में तैयार किया गया है, जिस में पुलिस इस्लाहात से मुताल्लिक़ हुक्म जारी किया था। हुकूमत ने अवाम से समाजी तंज़ीमों, ग़ैर सरकारी तंज़ीमों, माहिरीन तालिमात और मुसव्वदा क़ानून से दिलचस्पी रखने वाले दीगर अफ़राद से तजावीज़ और तबसरे तलब किए हैं।

TOPPOPULARRECENT