Thursday , December 14 2017

पुलीस ज़ुल्म को फ़ौरी बंद किया जाये, हरासानी ने एक शख़्स की जान ले ली जमात-ए-इस्लामी हैदराबाद की शूरा की मुज़म्मती क़रारदाद

हैदराबाद डाक्टर ख़ालिद मुबश्शिर ज़फ़र नाज़िम शहर जमात-ए-इस्लामी हैदराबाद के मुताबिक़ मज्लिसे शूरा हैदराबाद का एक इज्लास जनाब ख़्वाजा आरिफ़ उद्दीन अमीर हल्क़ा जमात-ए-इस्लामी हिंद हल्क़ा आंधरा प्रदेश‍ ओ‍ ओडीशा की निगरानी में मुनाक़िद ह

हैदराबाद डाक्टर ख़ालिद मुबश्शिर ज़फ़र नाज़िम शहर जमात-ए-इस्लामी हैदराबाद के मुताबिक़ मज्लिसे शूरा हैदराबाद का एक इज्लास जनाब ख़्वाजा आरिफ़ उद्दीन अमीर हल्क़ा जमात-ए-इस्लामी हिंद हल्क़ा आंधरा प्रदेश‍ ओ‍ ओडीशा की निगरानी में मुनाक़िद हुआ ।

इस इज्लास में हसब ज़ैल क़रार दाद मंज़ूर की गई । जमात-ए-इस्लामी का एहसास है कि शहर में एक तरफ़ मंसूबा बंद तरीका से पाँच शरपसंदों ने फ़साद बरपा किया । मंदिर में हरा रंग फेंका और गाय का पेर ले जाकर रखा और इस के बाद मुख़्तलिफ़ दूकानों , मकानात और बसों पर संगबारी की , गुज़रने वाले राहगीरों को निशाना बनाया लेकिन इन पाँच में से सिर्फ एक शरपसंद को पुलीस ने मंज़रे आम पर लाया और बाकी चार को नामालूम वजूहात और दबाउ के पेश नज़र मंज़रे आम पर लाना नहीं चाहती । जिस फ़र्द को लाया गया इस के इंतिहाई शदीद जुर्म को बहुत कम कर के दिखाया गया ।

और दूसरी तरफ़ मुस्लिम नौजवानों की फ़हरिस्त बनाकर रातों में पुलीस उन के घरों पर धावे कर रही है । अब तक गिरफ़्तार होने वालों में अक्सरियत मुस्लिम नौजवानों की है । सइदाबाद और मादन्ना पेट के फ़साद के नतीजे में कोई जानी नुक़्सान नहीं हुआ लेकिन पुलीस की हरासानी के नतीजे में आसमान गढ़ के एक मासूम नौजवान सय्यद ग़ौस की जान चली गई ।

जमात इस्लामी हिंद शहर हैदराबाद की मज्लिस शूरा पुलीस के इस जानिब्दाराना और मुतास्सिबाना रवैय्या की शदीद मुज़म्मत करती है और हुकूमत से मुतालिबा करती है कि मुस्लिम नौजवानों की गिरफ़्तारी को फ़ौरी बंद किया जाये । शरपसंद अनासिर बिलखुसूस फ़साद का आग़ाज़ करने वाले पाँच नौजवानों को मंज़रे आम पर लाया जाये और उन पर मुनासिब केस दर्ज किए जाएं । मरने वाले नौजवान के वूरसा-ए-को हुकूमत की जानिब से मुनासिब मुआवज़ा दिया जाय और आइन्दा शहर में प्रवीण तोगाड़िया के दाख़िले पर पाबंदी लगाई जाए ।

TOPPOPULARRECENT