Wednesday , December 13 2017

पूर्व चुनाव आयुक्तों ने कहा अब शिवसेना, अकाली दल व मुस्लिम लीग जैसे दलों को अपने नाम बदलने पड़ेंगे

सुप्रीम कोर्ट के धर्म के नाम पर वोट मांगने को गैर-कानूनी करार देने के फैसला आने के बाद पूर्व चुनाव आयुक्तों संभावना जताई है कि कुछ मौजूदा राजनैतिक दलों को अपने नाम और चुनाव चिन्ह बदलने पड़ सकते हैं। इनमें शिवसेना, अकाली दल, मुस्लिम लीग और ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमिन (एआईएमआईएम) जैसे नाम शामिल हैं।

एक चैनल से बात करते हुए पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एन. गोपाल स्वामी ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर संदेह जताते हुए कहा है कि यह फैसला लागू कैसे होगा। उन्होंने कहा है कि अकाली दल, एआईएमआईएम, शिवसेना और मुस्लिम लीग को फैसले के बाद अपने नाम बदलने पड़ेंगे। वहीं पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एस. वाई. कुरैशी ने गोपाल स्वामी की बातों का समर्थन करते हुए कहा है कि फैसले के बाद कुछ राजनैतिक पार्टियों को अपने नाम बदलने पड़ेंगे।

दूसरी तरफ शिवसेना के प्रवक्ता मनीषा कायंदे ने कहा है कि उनकी पार्टी इस फैसले का विरोध करेगी। उन्होंने कहा कि शिवसेना नाम छत्रपति शिवाजी के नाम पर रखा गया है, कोई भी इसे बदलने के लिए दबाव नहीं डाल सकता। वहीं मुस्लिम लीग के नेता पी.वी. अब्दुल वहाब का कहना है कि कोर्ट को इस मामले में ठीक से क्लीयर करना चाहिए। बता दें कि सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक ऐतिहासिक फैसले में कहा था कि कोई दल धर्म के नाम पर वोट नहीं मांग सकता। कोर्ट ने धर्म के नाम पर वोट मांगने को गैर-कानूनी करार दे दिया।

TOPPOPULARRECENT