पेट्रोलियम उत्पादक देशों के संगठन ओपेक की साख अब खत्म हो गई है- ईरान

पेट्रोलियम उत्पादक देशों के संगठन ओपेक की साख अब खत्म हो गई है- ईरान

अमेरिका ने ईरान पर सख्त है और इस सख्ती की वजह से तेल के विश्व बाजार में भी एक लड़ाई शुरू हो गई है। इस बीच ईरान ने कहा है कि पेट्रोलियम उत्पादक देशों के संगठन ओपेक की साख अब नहीं रह गई है। ईरान ने कहा कि इसके कुछ सदस्य देशों न इसे महज एक अमेरिकी टूल में बदल कर रख दिया है। बता दें कि ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंधों की वजह से उसका तेल उत्पादन घट गया है और वैश्विक बाजार में क्रूड का दाम बढ़ रहा है।

पेट्रोल डीजल की कीमतों में लगातार इजाफा हो रहा है और भारत सरकार को भी विपक्ष ने इस मुद्दे पर घेर रखा है। उधर, ईरान के ओपेक गवर्नर हुसैन कजीमपुर ने कहा कि सऊदी अरब और यूएई ओपेक को अमेरिका का टूल बना रहे हैं। इस वजह से संगठन की साख अब नहीं रह गई है। ओपेक ईरानी अधिकारी ने ये बातें कहीं हैं।

उन्होंने आगे कहा कि ओपेक अपनी अंतरराष्ट्रीय छवि को खो रहा है और महज एक फोरम बनकर रह गया है। दरअसल रूस, दूसरे तेल उत्पादकों सहित ओपेक ने जून में तेल उत्पादन को बढ़ाने पर सहमति दी थी। ईरान ने इस कदम का विरोध किया था।

ओपेक के फाउंडर मेंबर्स में से एक ईरान अमेरिका की तरफ से प्रतिबंध लगाने के बाद इस तरह की कवायद के विरोध में था। आपको बता दें कि अमेरिका 2015 की ईरान न्यूक्लियर डील से बाहर निकल गया है और उसने ईरान पर वैश्विक प्रतिबंध लगा दिए हैं। अमेरिका के इस फैसले के बाद तेल के वैश्विक बाजार में सप्लाई की व्यवस्था बने रहने पर सवाल खड़ा हो गया।

ईरान ने सऊदी अरब और रूस पर तेल प्रॉडक्शन को बढ़ाने को लेकर निशाना साधा है। ईरान का कहना है कि रूस और सऊदी अरब दावा कर रहे हैं कि वैश्किक तेल बाजार को संतुलित करना चाहते हैं, लेकिन वे ईरान के हिस्से पर कब्जा जमाने की कोशिश कर रहे हैं।

Top Stories