Thursday , December 14 2017

पेश होगा 60 हजार करोड़ रुपये का बजट

रियासती हुकूमत की तरफ से अगले माली साल (2015-16) के लिए 60,000 करोड़ रुपये का बजट पेश किये जाने का अनुमान है। इसमें से 31500 करोड़ रुपये मंसूबा खर्च और 28500 करोड़ रुपये गैर- मंसूबा पर खर्च होने का इमकान है। रियासत के फायनेंस वज़ीर की तरफ से द्वारा म

रियासती हुकूमत की तरफ से अगले माली साल (2015-16) के लिए 60,000 करोड़ रुपये का बजट पेश किये जाने का अनुमान है। इसमें से 31500 करोड़ रुपये मंसूबा खर्च और 28500 करोड़ रुपये गैर- मंसूबा पर खर्च होने का इमकान है। रियासत के फायनेंस वज़ीर की तरफ से द्वारा मार्च को एवान में पेश किया जायेगा। फिलहाल वजीरे आला ही फायनेंस वज़ीर के इंचार्ज में हैं।

हुकूमत ने अगले माली साल के दौरान कुल 60,000 करोड़ रुपये के खर्च का इमकान किया है। तरक़्क़ी मंसूबों के लिए मुकर्रर कुल 31,500 करोड़ में से 10,878 करोड़ रुपये मरकज़ी व स्पोंसर मरकज़ी मंसूबों के मद में मरकज़ी हुकूमत से मिलने का इमकान किया गया है। हुकूमत ने रियसती मंसूबा मद से 20,622 करोड़ रुपये खर्च करने का इमकान किया है। रियासत मंसूबा मद के लिए मुकर्रर यह रकम चालू माली साल के लिए मुकर्रर रकम से 2,352 करोड़ रुपये ज़्यादा है।

चालू माली साल के लिए रियासती मंसूबा मद से 18,270 करोड़ रुपये खर्च करने का टार्गेट तय किया गया था। रियासती हुकूमत ने रियासती मंसूबा के लिए 20,622 करोड़ की रकम में से करीब 40 % रकम अपने इंटरनल ज़राये से जुटाने का फैसला किया है। 35 फीसद रकम मरकज़ी मदद व ग्रांट के तौर में मिलने का इमकान है, जबकि 25 फीसद रकम बाजार समेत दीगर ज़राये से कर्ज लेकर जुटाने का इमकान किया गया है।

TOPPOPULARRECENT