Tuesday , December 12 2017

पैगाम-ए-कुरान #3

कुरान पैगाम देती है कि रोजे का मतलब है किसी महिला को गलत नजर से मत देखो, किसी को गालियां मत दो। बिना वजह किसी की भी पिटाई न करें और अगर कोई ऐसा करता है तो उसका रोजा कबूल नहीं होता। असल में रोजा इंद्रियों को नियंत्रण में करके खुदा की खुशी के लिए काम करना है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

TOPPOPULARRECENT