पैसों के लिए तीन दिनों से बैंकों का चक्कर लगा रहे किसान ने की आत्महत्या

पैसों के लिए तीन दिनों से बैंकों का चक्कर लगा रहे किसान ने की आत्महत्या

रायपुर में एक किसान ने रविवार को नोटबंदी के चलते आत्महत्या कर ली। तामिलनाडू में फंसे अपने दो बेटों को आर्थिक सहायता से लिए तीन दिन से बैंकों का चक्कर लगा रहा था। उसको मात्र अपने तीन हजार के पूराने नोट को बदलकर नए करेंसी लेनी थी पर उसका पैसा बदली नहीं हो सका।

स्थानीय पुलिस के मुताबिक, रवि प्रधान नाम के यह शख्स ने नोट बदले जाने को लेकर परेशान था। उसके बेटे तमिलनाडू में सूत फैक्टरी में करते हैं। तीन दिन पहले उसके बेटों का फोन आया था, जिसमें उनलोगों ने बताया था कि जिस फैक्टरी में वे लोग काम करते हैं उसका ठेकेदार कर्मचारियों का पैसा लेकर भाग गया है। वे घर आना चाहते हैं पर उनके पास पैसे नहीं हैं।

https://www.youtube.com/watch?v=tL5DpILc6Is

उसके बाद रवि प्रधान ने अपने बेटों को पैसे भेजने थे कई दिनों तक चक्कर लगाया। लेकिन भीड़ अधिक होने के चलते बैंक में पैसे जमा नहीं हो सका। उसके बाद बेटों को वक्त पर पैसे न भेज पाने के दुखी होकर रवि ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। 45 वर्षीय रवि प्रधान रायगढ़ के बरमकेला तहसील के सरिया ब्लॉक का रहने वाला था।

 

Top Stories