Friday , December 15 2017

‘प्यासे’ मालदीव को पानी पिलाएगा हिंदुस्तान

मालदीव की दारुल हुकूमत माले में अचानक पैदा हुई पानी की दिक्कते से निपटने के लिए हिंदुस्तान ने मदद का हाथ बढ़ाते हुए आईएनएस सुकन्या पोत ( जहाज़) को माले रवाना कर दिया.

मालदीव की दारुल हुकूमत माले में अचानक पैदा हुई पानी की दिक्कते से निपटने के लिए हिंदुस्तान ने मदद का हाथ बढ़ाते हुए आईएनएस सुकन्या पोत ( जहाज़) को माले रवाना कर दिया. इस जहाज़ पर 35 टन पीने के पीनी मौजूद है और इसमें दो रिवर्स आसमोसिस (आरओ) प्लांट लगे हैं, जो हर रोज़ 20 टन ताजा पीने कापानी मुहैया करा सकते हैं.

वज़ारत दिफा से जारी बयान के मुताबिक मालदीव की दारुल हुकूमत माले में वाटर प्लांट में आग लगने के बाद शदीद तौर पर पानी की दिक्कत पदिआ हो गयी है मालदीव की हुकूमत ने हिंदुस्तानी ओहदेदारों से मदद की गुहार की और इस गुजारिश पर फौरन कारवाई करते हुए जुमेरात की रात हिंदुस्तानी बहरिया (Indian Navy) ने आईएनएस सुकन्या को माले रवाना कर दिया.

आईएनए सुकन्या एक समुद्री निगरानी जहाज़ है और यह कोच्चि के समुद्री इलाकों में बाकायदा निगरानी पर था.
बयान में कहा गया है कि मालदीव के ओहदेदारों को फौरन मदद के लिए आईएनएस सुकन्या को माले भेज दिया गया. इस जहाज़ पर 35 टन पीने का पानी है और इसमें दो रिवर्स आसमोसिस (आरओ) प्लांट लगे हैं जो हर रोज़ 20 टन ताजा पीने कापानी मुहैया करा सकता है.

मालूम हो कि जुमेरात के रोज़ माले के वाटर और सीवरेज कंपनी के जनरेटर कंट्रोल पैनल में आग लग गई थी. जिससे वहां की पीने के पाइनी सरबराही ठप हो गई. माले में टैंकों और दिगर भंडारों में रखे गए पीने के पानी की 12 घंटे में एक बार एक घंटे के लिए सरबराही की जा रही है.

TOPPOPULARRECENT