Wednesday , November 22 2017
Home / Delhi / Mumbai / प्रमुख सेना की नियुक्ति पर राजनीति नहीं होनी चाहिए, भाजपा सरकार विभागों से खिलवाड़ कर रही है: कांग्रेस

प्रमुख सेना की नियुक्ति पर राजनीति नहीं होनी चाहिए, भाजपा सरकार विभागों से खिलवाड़ कर रही है: कांग्रेस

नई दिल्ली: परस्पर राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप का आज से नए प्रमुख सेना की नियुक्ति को लेकर विवाद शुरू हो गया है जब कि दो सीनीयर ओहदेदारों को नजरअंदाज़ कर के नए प्रमुख सेना को नियुक्त किया गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोई ” कारण नहीं बताया ” कांग्रेस के नेता मनीष तिवारी ने सरकार की निंदा करते हुए कहा कि वह ” विभागों से खिलवाड़ ” कर रही है और सेना प्रमुख की नियुक्ति को भी राजनीतिक बना दिया गया है।

उन्होंने कहा की  मनमाने चयन किया जा रहा है ‘उनकी टिप्पणी सरकार की ओर से उप चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ लेफ्टिनेंट जनरल बिपिन रावत को दो वरिष्ठ अधिकारियों ईस्टर्न आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल विशेषज्ञता दिया और राष्ट्रपति आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल पी एम हरीज़ उपेक्षा करते हुए प्रमुख सेना नियुक्त किया गया।

भाकपा नेता डी राजा ने भी सरकार के कदम पर आपत्ति जताते हुए कहा कि क्या सेना ‘न्यायपालिका और सीवीसी में भाजपा मनमाने भरती कर रही है। सीबीआई निदेशक और केंद्रीय सूचना आयोग विवादास्पद बन चुके हैं। भाजपा ने कांग्रेस सरकार की आलोचना की निंदा करते हुए कहा कि रक्षा बलों में कांग्रेस को राजनीति नहीं करनी चाहिए।

भाजपा के राष्ट्रीय सचिव श्रिकांत शर्मा ने कहा कि नए प्रमुख सेना का चयन पांच सबसे वरिष्ठ अधिकारियों में से किया गया है। सभी के सभी पद के योग्य थे लेकिन लेफ्टिनेंट जनरल रावत की नियुक्ति दूसरों की योग्यता से इनकार नहीं है। सीपीआई के महासचिव डी राजा ने कहा कि सेना में भरती विवादास्पद बन चुके हैं। न्यायपालिका और सीआईसी में भरती पहले ही विवादास्पद बन गए थे। कांग्रेस के प्रवक्ता उच्च ने कहा कि इन हालात में जब कि पिछले ढाई साल से प्रतिशोध जारी है। सरकार कम उच्चतम स्तर तक पहुँच गया है।

TOPPOPULARRECENT