Tuesday , December 12 2017

प्रिंस चार्ल्स ने अपने पत्र में मध्य पूर्व में अशांति के लिए विदेशी यहूदियों को ज़िम्मेदार ठहराया

1986 में प्रिंस चार्ल्स ने एक पत्र के द्वारा मध्य पूर्व पर अपना विचार व्यक्त किया था जिसमें उन्होंने अपने गुरु लोरेंस वैन डर को लिखा था कि यूरोपीय यहूदियों के पलायन ने क्षेत्र में अशांति का कारण बना दिया उन्होंने यह भी कहा था कि अमेरिकी यहूदी लॉबी को खड़ा किया जाएगा| यहूदी लॉबी यह कुछ लोगों द्वारा एक विरोधी सामी शब्द माना जाता है| जिसे लोग अक्सर आलोचना के लिए प्रयोग करते हैं| हालांकि यूके यहूदी समुदाय के साथ चार्ल्स का हमेशा अच्छा रिश्ता रहा है| चार्ल्स ने अपने पत्र के द्वारा मध्य पूर्व में विदेशी यहूदियों की तादाद ज़्यादा होने से अशांति का कारण बताया था| दुनिया के सबसे खूनी विवादों में से यह एक था जिस पर चार्ल्स ने अपनी राय ज़ाहिर की थी यह हो सकता है अब सार्जनिक रूप से दिखाया जाये| उन्होंने अपने पत्र में अरब इजराईल के संघर्ष का चौकाने वाला मुल्यांकन किया है| उनका मानना है की पिछली सदी में यहूदियों का पलायन सबसे बड़ी समस्सया का कारण था|

यहूदी लॉबी शब्द को कई लोगों द्वारा यहूदी विरोधी माना जाता है| अमेरिकी सरकार में अमीर यहूदियों का सुझाव है कि वे सरकारी नीति पर अनुचित प्रभाव डालने के लिए पर्दे के पीछे काम करते हैं। अन्य हाई-प्रोफाइल के आंकड़ों को इस शब्द का इस्तेमाल करने के लिए भारी आलोचना की गई है। इस पत्र को लेकर  यहूदी क्रॉनिकल के प्रभावशाली संपादक स्टीफन पोलार्ड ने कहा कि प्रिंस के इस पत्र में सबसे आश्चर्यजनक शब्द है ‘यहूदी लॉबी’ इसका हम सदियों से सहन करते आ रहे हैं|   पोलार्ड ने कहा कि यह पत्र सबको हैरत में डालने वाला कर दिया उन्होंने कहा कि यह पत्र भड़काऊ है, कोई सुझाव नहीं है चार्ल्स यहूदी विरोधी विचारों को रोकता है।

उनके पास कई प्रमुख यहूदी मित्र हैं और 2013 में एक प्रमुख रब्बी के उद्घाटन समारोह में भाग लेने वाले पहले रॉयल बने। उस वर्ष के एक भाषण में, उन्होंने ब्रिटेन में यहूदी विरोधी विरोधी की स्पष्ट वृद्धि पर चिंता व्यक्त की। अतीत में यह बताया गया है कि राजकुमार मध्यपूर्व में अमेरिकी नीति के लिए निजी तौर पर आलोचनात्मक है, एक राजनयिक स्रोत ने उन्हें इजरायल पर काफी तीखे दृष्टिकोण रखने का आरोप लगाया। हालाँकि चार्ल्स ने ब्रिटेन में यहूदी समुदाय के साथ हमेशा करीबी और सहायक संबंध का आनंद लिया है। इसी समय, उन्हें इस्लाम के रक्षक के रूप में देखा जाता है वहीँ पर कुछ लोगों का मानना है कि वह फिलिस्तीनी झुकाव के समर्थक हैं| उनकी यह एक धारणा है उनके ही पत्र से पता चलता है| राजकुमार का पत्र सार्वजनिक तौर पर खुल के सामने आया|

उसमें यह पाया गया कि 24 नवंबर, 1986 को तत्कालीन 38 वर्षीय राजकुमार की राजकुमारी डायना के साथ सऊदी अरब, बहरीन और कतर के लिए आधिकारिक दौरे के बाद लिखा गया था। ‘यहूदी लॉबी’ शब्द का इस्तेमाल करने वाले लोगों में जनरल जॉर्ज ब्राउन भी थे  जो संयुक्त रूप से संयुक्त चीफ ऑफ स्टाफ के अध्यक्ष के रूप में अमेरिका में उच्चतम श्रेणी के सैन्य अधिकारी थे  जिन्हें सार्वजनिक रूप से 1974 के बाद राष्ट्रपति जेराल्ड फोर्ड द्वारा निंदा कर दिया गया था। इस पत्र में यूरोपीय यहूदियों के प्रवाह के लिए भी राजकुमार के पास निराशा का कारण था  हालाँकि यह स्पष्ट नहीं कि वह द्वितीय विश्व युद्ध के पहले या बाद में या दोनों के बाद आव्रजन का उल्लेख कर रहा है। संपादक पोलार्ड ने कहा: ‘यह मध्य पूर्व में समस्याओं की क्लासिक अरब स्पष्टीकरण है। एक वरिष्ठ इज़राइली राजनयिक सूत्र ने कल रात कहा था चार्ल्स खाड़ी के राज्यों के आसपास यात्रा कर रहे थे  जो उस वक़्त इजराईल के बहुत विरोधी में आते थे|

इस महीने की शुरुआत में ब्रिटेन ने बेलफ़ोर घोषणा की शताब्दी का उल्लेख किया था, जिस दस्तावेज़ ने इसराइल राज्य के लिए मार्ग प्रशस्त किया था, लंदन में एक शानदार रात्रिभोज के साथ थेरेसा मे और इजरायल के प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने भाग लिया था  प्रिंस ने कहा कि इजरायल और उसके पड़ोसियों के लिए एक स्थायी और स्थायी शांति लाने के लिए एक बड़ा सौदा किया जाए’। जिससे आने वाले समय में अच्छा साबित हो सकता है| लोगों का मानना है कि चार्ल्स ने फिलिस्तीनी विचारों को स्वीकार किया है  उनका पत्र इसकी तरफ इशारा करता है| वह इस्लामी विचारधारा के प्रशंसक थे वह लिखते हैं कि इस्लाम के बारे में प्रशंसा करने के लिए बहुत कुछ है, विशेष रूप से आतिथ्य और शासकों की पहुंच पर इसका उच्चारण। 1993 में, चार्ल्स ने जो शाही परिवार के एक सदस्य द्वारा किए गए सबसे समर्थक-इस्लामी भाषण के रूप में माना जाता था|

अपने भाषण में उन्होंने कहा कि इस्लाम हमें आज दुनिया को समझने और रहने का एक तरीका बता सकता है| उन्होंने कहा ये दो दुनिया, इस्लामी और पश्चिमी हमें इससे अलग नहीं होने देना चाहिए।  2007 में वरिष्ठ क्लैरेंस हाउस के कर्मचारियों के बीच लीक किए गए ईमेल ने चार्ल्स को यहूदी राज्य के प्रति रॉयल्स के दृष्टिकोण के बारे में एक पंक्ति के केंद्र में रखा था। प्रिंस के तत्कालीन प्रधान सचिव सर माइकल पीट और सर माइकल के डिप्टी क्लाइव एल्डर्टन के बीच एक्सचेंजों ने इजरायल के बारे में जाहिरा तौर पर अपमानजनक टिप्पणी की। उस वर्ष के पहले इज़राइली दूतावास ने नेसेट के इजरायल संसद के मेहमान के रूप में दो वरिष्ठ सहयोगियों को इसराइल को चार दिवसीय यात्रा के लिए आमंत्रित किया था।

एक अन्य मामले में पत्र में लिखा था कि वर्षों से राजकुमार ने सऊदी शाही परिवार के साथ घनिष्ठ संबंध बना दिया है। लेकिन रॉयल ने कभी भी आधिकारिक क्षमता में इजरायल का दौरा नहीं किया है। अधिकारियों का कहना है कि इस क्षेत्र में कोई स्थायी शांति समझौता नहीं है। हालांकि इस साल की शुरुआत में, बेलफ़ोर्न शताब्दी के निशान के लिए देश का दौरा करने और हजारों ब्रिटिश युद्ध मृतकों का सम्मान करने के लिए चार्ल्स का अनुपालन किया गया था। लेकिन इस विचार को विदेशी कार्यालय द्वारा वीटो लगा दिया गया था और दावों किया गया था कि इजराईल के पड़ोसी देश अरब उन्हें परेशान कर देगा| कल रात एक क्लैरेंस हाउस के प्रवक्ता ने 1986 के पत्र के बारे में कहा कि यह पत्र स्पष्ट रूप से कहा था कि ये अरब-इजराइली मुद्दों के बारे में राजकुमार के अपने विचार नहीं थे, लेकिन उन लोगों के विचारों का प्रतिनिधित्व करते थे जो उनकी यात्रा के दौरान मिले थे|

 

TOPPOPULARRECENT