Saturday , September 22 2018

प्रियंका संभालेंगी इंदिरा की विरासत

नई दिल्ली, 24 मार्च: कांग्रेस सदर सोनिया गांधी की विरासत राहुल गांधी के साथ-साथ प्रियंका गांधी भी संभालेंगी। इस साल जनवरी की शुरुआत में जयपुर चिंतन शिविर से राहुल नायब सदर बनकर रस्मी तौर पर पार्टी में नंबर दो बनकर उभर चुके हैं। अभी

नई दिल्ली, 24 मार्च: कांग्रेस सदर सोनिया गांधी की विरासत राहुल गांधी के साथ-साथ प्रियंका गांधी भी संभालेंगी। इस साल जनवरी की शुरुआत में जयपुर चिंतन शिविर से राहुल नायब सदर बनकर रस्मी तौर पर पार्टी में नंबर दो बनकर उभर चुके हैं। अभी तक खुद को मुतहरिक सियासत से दूर किए प्रियंका लोकसभा इंतेखाबात तक खुलकर अपना किरदार/रोल संभाल लेंगी।

इशारा हैं कि जिस तरह सोनिया ने पहले राहुल के लिए अमेठी लोकसभा सीट छोड़ी थी, इस दफा प्रियंका अपनी वालदा की मौजूदा रायबरेली पार्लीमानी सीट से चुनाव लड़ेंगी। यानी बेटे को शौहर की विरासत सौंप चुकी सोनिया ने सास इंदिरा गांधी की पार्लीमानी सीट रायबरेली को अपनी बेटी प्रियंका के हवाले कर दिया है।

सोनिया की पार्लीमानी सीट की नुमाइन्दे के तौर पर इस पूरे इलाके में प्रियंका ने चुनाव लड़ने से पहले अपनी ‘फौज’ न सिर्फ तैयार कर ली है, बल्कि उसे मैदान पर भी उतार दिया है। अप्रैल से रायबरेली के हर गांव, ब्लाक व तहसील सतह पर कारकुन ‘कांग्रेस आपके द्वार’ प्रोग्राम शुरू कर देंगे। प्रियंका की जमीन पुख्ता करने का काम बिना शोर मचाए, बेहद सोच समझ कर किया गया है।

राहुल गांधी नायब सदर बनने के बाद सबकी सुनकर हिकमत अमली का जो काम कौमी सतह पर कर रहे हैं, उसका रिहर्सल वास्तव में प्रियंका रायबरेली में कर चुकी हैं। उन्होंने जिले के सभी 16 ब्लाकों के पार्टी सदूर के इंटरवियू लिए और फार्म भरवाकर तकररूरी की।

सोनिया के इलाके का पूरा जिम्मा संभाल रहीं प्रियंका ने पिछले साल उत्तर प्रदेश के विधानसभा इलेक्शन में रायबरेली पार्लीमानी इलाके की पांचों सीटों पर कांग्रेस के शिकस्त होने को चैलेंज की तरह लिया। रायबरेली से अगला इलेक्शन लड़ने के उन्हें इशारे पहले ही मिल चुके थे।

गांधी खानदान के बेहद करीबी एक सीनीयर लीडर के मुताबिक ‘सोनिया ने रायबरेली को प्रियंका के हवाले कर दिया है।’ हालांकि, इस पर कोई मुंह नहीं खोल रहा है। अजूबा नहीं है कि सीधे इंदिराज के वक्त ही इस बात को बाकाएदा ( formal) किया जाए कि प्रियंका रायबरेली से इलेक्शन लड़ने जा रही हैं। सभी कारकुनो ‍ लीडरों को राज़दारी (Confidentiality) बरतने को कहा जा रहा है।

————– बशुक्रिया: जागरण

TOPPOPULARRECENT