प्लास्टिक थैलियों पर पाबंदी से सुपर मार्किटस को फ़ायदा

प्लास्टिक थैलियों पर पाबंदी से सुपर मार्किटस को फ़ायदा
हैदराबाद। १६ अप्रैल (सियासत न्यूज़) मजलिस बलदिया अज़ीम तर हैदराबाद की जानिब से बलदी हदूद में आइद की गई प्लास्टिक के इस्तिमाल पर पाबंदी का माहौल पर क्या असर हुआ, इस का तो अंदाज़ा नहीं हुआ लेकिन अवाम पर प्लास्टिक के इस्तिमाल पर पाबं

हैदराबाद। १६ अप्रैल (सियासत न्यूज़) मजलिस बलदिया अज़ीम तर हैदराबाद की जानिब से बलदी हदूद में आइद की गई प्लास्टिक के इस्तिमाल पर पाबंदी का माहौल पर क्या असर हुआ, इस का तो अंदाज़ा नहीं हुआ लेकिन अवाम पर प्लास्टिक के इस्तिमाल पर पाबंदी भी बोझ साबित हो रही है। दोनों शहरों हैदराबाद-ओ-सिकंदराबाद में बढ़ते हुए सुपर मार्किट में प्लास्टिक की थैली जो कि बलदी क़वाइद के मुताबिक़ है, उस की बाज़ाबता 2 रुपय मैं फ़रोख़त अमल में लाई जा रही है।

मजलिस बलदिया अज़ीम तर हैदराबाद का फ़ैसला माहौलियाती आलूदगी को पेशे नज़र रखते हुए किया गया था ताकि नाक़िस पॉलीथिन बैग्स‌ के इस्तिमाल के तदारुक से माहौलियाती आलूदगी को खत्म किया जा सके लेकिन आज भी नाक़िस पॉलीथीन बैग्स‌ का इस्तिमाल आम ही, मगर बड़े स्टोरस क़वाइद के मुताबिक़ तैय्यार करदा पॉलीथिन बयागस की फ़रोख़त को भी आमदनी का ज़रीया बना चुके हैं। अवाम में सुपर‌ मार्किटस की जानिब से पॉलीथिन बैग्स‌ की फ़रोख़त पर नाराज़गी पाई जाती है लेकिन अवाम कुछ भी करने से क़ासिर है। सुपर मार्किटस से सौदा बैग्स‌ खरीदते वक़्त अगर आप के पास अपनी थैली ना हो तो आप को 2 रुपय फ़ी थैली के हिसाब से इज़ाफ़ी रक़म अदा करनी पड़ेगी।

बलदी ओहदेदारों के इताब से महफ़ूज़ रहने के लिए मामूली कारोबार करने वाले ठेला बंडी वग़ैरा पर भी क़वाइद के मुताबिक़ तैय्यार करदा पॉलीथिन में सौदा सॆल्फ‌ दिया जाता है लेकिन ग्राहकों से इस की इज़ाफ़ी रक़म नहीं ली जाती , मगर सुपर मार्किटस मैं थैली के लिए अलैहदा रक़म मुख़तस करना ग्राहक‌ पर इज़ाफ़ी बोझ डालने के मुतरादिफ़ साबित हो रहा है। मजलिस बलदिया अज़ीम तर हैदराबाद के एक ओहदेदार ने पॉलीथिन पर आइद पाबंदी के असरात के मुताल्लिक़ पूछे जाने पर जवाब दिया कि नाक़िस पोलीथिन बैग्स‌ पर इमतिना आइद करने के बावजूद पॉलीथिन बैग्स‌ बाज़ार पर आम दस्तयाब है, लेकिन बाअज़ मख़सूस कारोबारी अफ़राद की जानिब से क़वाइद के मुताबिक़ तैय्यार करदा प्लास्टिक की थैलीयों को फ़रोग़ दिया जा रहा है, मगर उन्हें कामयाबी हासिल नहीं होरही है जिस के सबब पोलीथिन बैग्स‌ की फ़रोख़त का सिलसिला चल पड़ा है।

मामूली कारोबार करने वाले अफ़राद को भी बाज़ार में नाक़िस पॉलीथिन आसानी से दस्तयाब नहीं है जिस के सबब वो भी क़वाइद के मुताबिक़ तैय्यार करदा पॉलीथिन में अपना सामान दे रहा है, लेकिन इस के लिए वो कोई इज़ाफ़ी रक़म वसूल नहीं करता। अवाम इज़ाफ़ी बोझ से महफ़ूज़ रहने के लिए अपनी थैलीयों बिलख़सूस कपड़े या जूट की थैलीयों का इस्तिमाल शुरू करते हैं तो ऐसी सूरत में वो सुपर‌ मार्किटस की जानिब से आइद करदा इज़ाफ़ी बोझ से महफ़ूज़ रह सकते हैं।

Top Stories