Friday , September 21 2018

फलस्तीन मुद्दे पर अरब देशों की सभी मीडिया मिलकर काम करे- सऊदी अरब

संस्कृति और सूचना मंत्री अव्वाद अल-अव्वाद ने फिलिस्तीनी कारणों के साथ-साथ फिलीस्तीनी लोगों के वैध अधिकारों और कब्जे वाले येरूशलम के लोगों के पीड़ितों को उजागर करने के लिए संयुक्त अरब मीडिया के काम को बढ़ावा देने की आवश्यकता पर जोर दिया।

सऊदी गेजेट के मुताबिक, अव्वाद ने मंगलवार को काहिरा में अरब लीग मुख्यालय में सूचना के अरब मंत्रियों की परिषद के कार्यकारी ब्यूरो के 9 वें सत्र में अपने राष्ट्रपति भाषण में यह टिप्पणी की।

अपने भाषण में, अव्वाद ने दो पवित्र मस्जिदों के कस्टोडियन किंग सलमान के बयान को संदर्भित किया, जब किंग सलमान ने दहरान में आयोजित 29वीं अरब शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा था कि, “फिलिस्तीनी मुद्दा” अरबों और मुस्लिमों का पहला और सबसे बड़ा मुद्दा है और यह तब तक रहेगा फिलीस्तीनी लोग अपने सभी वैध अधिकारों को वापस प्राप्त करते हैं, जिसमें पूर्व येरूशलम के साथ एक स्वतंत्र राज्य की स्थापना शामिल है।

उन्होंने आगे कहा कि, सऊदी के इस फैसले से, फिलिस्तीनी कारणों के साथ-साथ फिलीस्तीनी लोगों के वैध अधिकारों और यरूशलेम और उसके लोगों के पीड़ितों को उजागर करने के लिए संयुक्त अरब मीडिया के काम को बढ़ावा देना हमारा कर्तव्य है।

अव्वाद ने अरब शिखर सम्मेलन का हवाला देते हुए कहा कि, सऊदी के फिलिस्तीन मुद्दे सबसे उपर है इसलिए अरब शिखर सम्मेलन का नाम बदलकर किंग सलमान ने इसे येरूशलम शिखर सम्मेलन” नाम दिया था, जो वैश्विक मीडिया योजना को येरूशलम को इजरायल की राजधानी के रूप में पहचानने के अमेरिकी कानून का मुकाबला करने के लिए तैयार है।

इस योजना में फिलिस्तीनी कारण के सभी पहलुओं को उजागर करने के उद्देश्य से सचिवालय द्वारा तैयार कार्यक्रमों और पहलों को शामिल किया गया है।

सऊदी मंत्री ने अरब क्षेत्र के सामने आने वाले संकटों से निपटने के लिए अत्यधिक प्रयास करने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि सऊदी अरब यमन में संकट के राजनीतिक समाधान तक पहुंचने के उद्देश्य से सभी प्रयासों का समर्थन करता है। उन्होंने कहा कि हम फिलिस्तीनियों के दर्द को समझते है इसलिए हम फिलिस्तीन के साथ खड़े है।

साभार- ‘वर्ल्ड न्यूज अरबीया’

TOPPOPULARRECENT