Saturday , December 16 2017

फ़िल्मी दुनिया और क्रिकेटर्स बाल ठाकरे के ज़बरदस्त मद्दाह

मुंबई, १६ नवंबर ( एजेंसी) क्या बाल ठाकरे के बाद शिवसेना का दबदबा ख़त्म हो जाएगा ? क्या मुंबई शहर अब पहले जैसा नहीं रहेगा ?

मुंबई, १६ नवंबर ( एजेंसी) क्या बाल ठाकरे के बाद शिवसेना का दबदबा ख़त्म हो जाएगा ? क्या मुंबई शहर अब पहले जैसा नहीं रहेगा ? ये वो सवालात हैं जो ज़बान ज़द ख़ास-ओ-आम हैं । ख़ुसूसी तौर पर फ़िल्मी हस्तियां बाल ठाकरे की हमेशा मद्दाह रही हैं । चाहे वो ला ऐंड आर्डर का मुआमला हो, फ़िल्म की रीलीज़ में रुकावटों का हो या फिर कोई शख़्सी मुआमला अर्सा क़बल जब आँजहानी देवानंद की फ़िल्म प्यार का तराना की रीलीज़ के लिए मुश्किलात पेश की जा रही थीं तो देवानंद ने बाल ठाकुर के मकान पहुंच कर उन से तआवुन की दरखास्त की थी ।

यही नहीं बल्कि माज़ी की कामयाब अदाकारा माला सिन्हा की बेटी प्रतिभा सिन्हा ( जिन का फ़िल्मी करीयर नाकाम रहा ) का इश्क़ मूसीक़ार जोड़ी नदीम श्रावण के नदीम के साथ उरूज ( बुलंदी) पर था उस वक़्त माला सिन्हा ने दोनों के सर से इश्क़ का भूत उतारने के लिए बाल ठाकरे से मुलाक़ात की थी ताकि शिवसेना से नदीम और प्रतिभा दोनों को डराया जाए ।

इसके बाद क्या हुआ ये कोई नहीं जानता लेकिन नदीम को किसी क़त्ल मुआमला में मुलव्वस पाया गया था उस वक़्त से आज तक वो लंदन में पनाह लिए हुए है । संजय दत्त को जेल से रिहाई दिलाने में जब सब नाकाम हो गए थे उस वक़्त बाल ठाकरे ने उन की मदद की थी और जेल से रिहा होने के बाद संजय दत्त एक जलूस की शक्ल में सब से पहले बाल ठाकरे के मकान पहुंचे थे ।

इसी तरह बच्चन ख़ानदान के भी बाल ठारे के साथ क़रीबी रवाबित हैं । तक़रीबात में उन्हें मदऊ किया जाता है । अलबत्ता बाल ठाकरे और दिलीप कुमार की सिर्फ़ एक दो तसावीर ऐसी हैं जहां दोनों एक दूसरे से महव गुफ़्तगु हैं । इस के इलावा मीडीया के पास भी दिलीप कुमार और बाल ठाकरे की एक साथ तस्वीर का रिकार्ड नहीं है । यहां तक कि पाकिस्तानी क्रिकेटर जावेद मियां दाद भी जब मुंबई आते थे तो उन्होंने बाल ठाकरे से मुलाक़ात की ख़ाहिश ज़ाहिर की थी और साबिक़ हिंदूस्तानी बल्लेबाज़ दिलीप वेंगसरकर के साथ उन के (ठाकरे) मकान पहुंचे थे जहां उन की ख़ूब आओ भगत की गई थी ।

इस से ये ज़ाहिर हुआ कि बाल ठारे की शख़्सियत में कोई ना कोई जादू ज़रूर है ।

TOPPOPULARRECENT