Tuesday , December 12 2017

फांसी का इंतेज़ार कर रहे कोली की सारी रात करवटें बदलते कटी

निठारी कत्ल केस के मुजरिम सुरेन्द्र कोली को जुमेरात की रात ग़ाज़ियाबाद की डासना जेल से मेरठ जेल में शिफ्ट कर दिया गया | मेरठ जेल के इंतेज़ामिया ने सेक्युरिटी के लिहाज से कोली को अलग बैरक में रखा है| हालांकि, जेल के आफीसरों का कहना है

निठारी कत्ल केस के मुजरिम सुरेन्द्र कोली को जुमेरात की रात ग़ाज़ियाबाद की डासना जेल से मेरठ जेल में शिफ्ट कर दिया गया | मेरठ जेल के इंतेज़ामिया ने सेक्युरिटी के लिहाज से कोली को अलग बैरक में रखा है| हालांकि, जेल के आफीसरों का कहना है कि कोली ने उनसे कोई मांग नहीं रखी है|

जेल के ज़राये के मुताबिक फांसी का इंतेज़ार कर रहा कोली पूरी रात सो नहीं पाया और करवटे बदलता रहा| आफीसरों का कहना है कि कोली के घर वालों को उसकी फांसी के बारे में गाज़ियाबाद जेल ने इत्तेला दे दी है|

जेल अफसरों का कहना है कि फांसी को लेकर सभी तैयारी कर ली गई है| मेरठ जेल के सुपरिटेंडेंट का कहना है कि 12 सितम्बर को कोली को फांसी दी जाएगी और इसे लेकर सभी इंतेजाम कर लिए गए हैं|

मगरिबी उत्तर प्रदेश में सिर्फ मेरठ जेल में ही फांसी देने का इंतेज़ाम है| इस जेल में रिकॉर्ड के मुतबैक अब तक 17 लोगों को फांसी दी गई है|

आपको बता दें कि निठारी कांड के मुल्ज़िम सुरेंद्र कोली के खिलाफ गाजियाबाद की सेशन कोर्ट ने मौत का परवाना जारी किया है| कोर्ट ने यूपी की हुकूमत को कोली का डेथ वारंट भेजकर इसे लागू कराने के लिए जरूरी कार्रवाई करने कि हिदायत दिए हैं|

मेरठ जेल के सीनीयर आफीसरों का का कहना है इस जेल में 1951 से 1975 तक 17 लोगों को फांसी दी गई है| 15.7.1975 में मुज़फ्फरनगर तितावी के कर्म सिंह को सबसे आखिर बार फांसी दी गई थी| उससे पहले 20.7.1966 को बुलन्दशहर के ममूति को फांसी दी गई और 27.10. 1965 को झांसी के बाबू खान को फांसी दी गई, अब एक बार फिर फांसी देने के लिए तैयारी की जा रही है|

मेरठ जेल के जल्लाद पवन का कहना है कि उसने जेल में जिस जगह फांसी दी जायेगी का जायज़ा कर लिया है जो कुछ कमी है उसको दूर करने के लिए जेल को बता दिया है| वो फांसी देने के लिए पूरी तरह से तैयार है|

TOPPOPULARRECENT