Sunday , December 17 2017

फांसी की तैयारी के दौरान क़ैदी का इक़दाम ख़ुदकुशी

इस्मत रेज़ि और क़त्ल मुआमले में सज़ाए मौत पाने वाले एक मुल्ज़िम ने उस वक़्त इक़दाम ख़ुदकुशी किया जब जेल हुक्काम उसकी और दीगर क़ैदी को फांसी पर लटकाने के इंतिज़ामात में मसरूफ़ थे।

इस्मत रेज़ि और क़त्ल मुआमले में सज़ाए मौत पाने वाले एक मुल्ज़िम ने उस वक़्त इक़दाम ख़ुदकुशी किया जब जेल हुक्काम उसकी और दीगर क़ैदी को फांसी पर लटकाने के इंतिज़ामात में मसरूफ़ थे।

शीवमनी ष़्टि ने अपने पोशीदा आज़ा और हाथ को ब्लेड से शदीद तौर पर ज़ख्मी कर दिया। हुंदलगा जेल हुक्काम ने ये बात बताई। दूसरे क़ैदी का नाम जाडे स्वामी रंगा शेट्टी बताया गया। इसके बाद‌ जेल ओहदेदारों ने बताया कि ज़ख्मी शीवमनी का इबतिदाई ईलाज जेल में ही किया गया और उम्मीद‌ है कि उसे डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल बदल दिया जाएगा।

दोनों मुल्ज़िमीन की जानिब से तहरीर करदा दरख़ास्त में सज़ाए मौत पर नज़र-ए-सानी की इस्तिदा की गई है जिस की आज सुप्रीम कोर्ट में समाअत अमल में आएगी। अपने एक मकतूब में जिसे शीवमनी ने तहरीर किया है और उस में इक्षा किया है कि वो एक उंचे ख़ानदान का चशम विचराग है और बेक़सूर है और उसे इस्मत रेज़ि और क़त्ल मुआमले में साज़िश के ज़रिया फंसाया गया है। शीवमनी के मकतूब को उसके रिश्तेदारों ने मीडिया के सामने पेश किया।

TOPPOPULARRECENT