Sunday , April 22 2018

VIDEO : फुटबॉलर मो सलाह की दीवानगी में लिवरपूल के हजारो प्रशंसक इस्लाम अपनाने को तैयार

लिवरपुल (इंग्लैंड) : लिवरपुल फुटबॉल क्लब के 25 साल का गौरव मो सलाह ने वापस लाया है, प्रशंसकों का जुनून इस कदर बढ़ गया कि लोग मुस्लिम बनने की चाहत जाहिर कर रहे हैं . लिवरपूल फुटबॉल क्लब के प्रशंसकों ने मिस्र के एक खिलाड़ी मोहम्मद सलाह को एक नए जोश और मंत्र के साथ उसे अपने में जकड़ लेने की चाहत में पागल हो रहे हैं. चुंकि लिवरपूल के तरफ से खेलते हुए मो सलाह ने 30 गोल दागे जो लिवरपुर के 25 साल का गौरव वापस आ गया है. एफसी बार्सिलोना के लिए खेलते हुए लुइस सुआरेज़ अप्रैल 2014 में एक सत्र में 30 गोल हासिल करने वाले अंतिम खिलाड़ी थे। अब मो सलाह  लिवरपूल एफसी के 125 साल के इतिहास में तेरहवां खिलाड़ी बन गए, जिन्होंने टीम के खिलाफ एक मैच में अपना 30 वां गोल दागने पर अर्जेंटीना की फुटबालिंग लीजेंड लियोनेल मेसी के साथ सलाहा की तुलना करने के लिए लोग प्रेरित हो रहे हैं ।

वो मंत्र सुनें जो प्रशंसकों ने स्टेडियम में कह रहे थे
“मो सा-ला-ला-ला-लाह, मो सा-ला-ला-ला-लाह, यदि वह आपके लिए काफी अच्छा है, तो वह मेरे लिए भी काफी अच्छा है, अगर वह मुस्लिम है, तो मैं भी मुस्लिम होना चाहता हूं, “प्रशंसकों को स्टेडियम से पब तक जाने तक का विडोयो फिल्माया गया है क्योंकि वे खेलते समय मो सलाह के पैर देखे हैं और अब उस कदम को प्रशंसक भुलना नहीं चाहते हैं।

गीत के बोल कुछ यूं हैं

“Mo Salah-la la la la la.

“If he’s good enough for you, he’s good enough for me.

“If he scores another few then I’ll be Muslim too.

“If he’s good enough for you, he’s good enough for me,

“He’s sitting in a mosque, that’s where I want to be.”

यह गाना हिट हो गया है और सोशल मीडिया पर चल रहा है।

मंत्र गाना या कह लिजिए कविता अभी भी जारी है जो प्रशंसक कहते हैं “वह अगर मस्जिद में बैठे हैं, तो यही वो जगह है जहाँ मैं होना चाहता हूं।” सालेह, जो मिस्र की राष्ट्रीय टीम के लिए भी खेलते है, जल्द ही वो अंग्रेजी फुटबॉल समुदाय का एक प्रिय  खिलाड़ी बन गए हैं ।

मिस्र के सलाह के लिए एक मंत्र जो कुछ लोगों द्वारा अंग्रेजी फुटबॉल में जातिवाद के खिलाफ एक उपलब्धि के रूप में देखा जा रहा है।  7 फरवरी की एक रिपोर्ट में, किक इट आउट – एक संगठन जो फुटबॉल में भेदभाव को समाप्त करने के लिए काम करता है – ने कहा कि 2017-2018 के मध्य भेदभाव की घटनाओं की संख्या बढ़ गई है

संगठन ने 2017 के अंत तक भेदभावपूर्ण दुर्व्यवहार की 282 घटनाओं से संबंधित 300 से अधिक रिपोर्ट प्राप्त की, जिसमें पेशेवर गेम, जमीनी फुटबॉल और सोशल मीडिया शामिल है। यह पिछले सीजन की इसी अवधि से 59 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है, जब 177 घटनाएं थीं।

मो सलाह इस्लामोफोबिया को रोकने जा रहा है
सोशल मीडिया पर कई लोगों ने लिवरपूल एफसी प्रशंसकों के कोरस का स्वागत किया है. व्यंग्यकार कार्ल शारो ने कहा कि “मो सलाह ने दुनिया में किसी और की तुलना में सभ्यताओं के संघर्ष को खत्म करने का काम किया है,”

सोशल मिडिया में मो सलाह के प्रति दिवानगी भी देखें

एक यूजर @Femi_SB ने कहा “मो सलाह इस्लामोफोबिया को रोकने जा रहे हैं।” लेखक और निर्देशक गब्लाहन ओबसेसन ने लिखा है, “मैं लिवरपूल प्रशंसक नहीं हूं, लेकिन आपको विश्वास होना चाहिए कि फुटबॉल मो सलाह के लिए इस लाल मंत्र के साथ लोगों के लिए एक पुल का काम करेगा।”

ओल्ड एल्थमियस के लिए रग्बी खिलाड़ी सैम एगर्टन ने ट्विटर पर लिखा “मैं भी मुसलमान होना चाहता हूँ गाना या  मंत्र मुसलमानों के प्रति  दीवानगी  बढ़ा देगा।” कई लोगों ने मजाक उड़ाया, जैसा कि गीत गाया जाता है, कि वे सलाहा की प्रतिभा के कारण इस्लाम को परिवर्तित करने पर विचार कर रहे थे। एक यूजर @bairdy_10 ने कहा “मो सलाह इतना अच्छा है कि मैं मुस्लिम बनने पर विचार कर रहा हुं. @ OSMLFC ने लिखा, “मुझे लगता है कि मैं लगभग 10 मो सलाह बनने से काफी दूर हूं”

@ bradleymaguire ने कहा” मो सला ने मुझे एक मुस्लिम बना दिया है, यदि आप मुझे ढूंढ रहे हैं तो मस्जिद के बाहर मुझे पकड़ लें,”।

TOPPOPULARRECENT