Tuesday , November 21 2017
Home / Jharkhand News / फूड सिक्यूरिटी एक्ट मामला : वज़ीर की भी नहीं सुनते अफसर

फूड सिक्यूरिटी एक्ट मामला : वज़ीर की भी नहीं सुनते अफसर

रांची : फूड सेक्युर्टी वज़ीर सरयू राय ने फूड सेक्युर्टी एक्ट के कार्रवाई में हुई भारी गड़बड़ी को लेकर महकमा सेक्रेटरी को खत लिखा है। खत में उन्होंने अपने पलामू दौरे का जिक्र करते हुए लिखा है कि जिले के डीसी और सप्लाय ओहदेदार ने पूछे जाने पर बताया कि 80 फीसद से ज़्यादा राशन कार्ड बंट गये हैं। पर मुखतलिफ़ ब्लॉक में कई ऐसे गांव मिले, जहां एक भी राशन कार्ड नहीं बंटा है। ऐसी सुरते हाल कई जिलों में है। इसमें एक बात यह भी वाजेह है कि रियासत के अफसर वज़ीर से भी झूठ बोलते हैं। उन्होंने अपने खत में सेक्रेटरी से कहा है कि वह फूड सेक्युर्टी एक्ट की कामयाबी के लिए डीसी को हिदायत दें। फूड सप्लाय वज़ीर सरयू राय को एसेम्बली सदर, एमएलए और एसेम्बली की मुखतलिफ़ कमेटियों के सदर समेत अखबार से और खुद इलाक़े का दौरा करने के दौरान फूड सेक्युर्टी एक्ट से मुतल्लिक़ शिकायतें मुसलसल मिल रही हैं।

वज़ीर सरयू राय ने चीफ़ सेक्रेटरी और महकमा सेक्रेटरी की तरफ से जारी कई हिदायत का ज़िक्र करते हुए कहा है कि छह माह बाद भी इनका पालन नहीं करना बदउनवान की तरफ इशारा है। चीफ़ सेक्रेटरी ने 19 मई को रियासत भर के डीसी समेत जिला इंतेजामिया के मुखतलिफ़ अफसरों को लिखा था कि वे हर माह अपने इलाक़े के एक टार्गेट रेशिओ में राशन दुकानों की जांच करें और इसकी रिपोर्ट सरकार को दें। जांच रिपोर्ट ओहदेदार की सीअार का हिस्सा होगा। ज़ाती सेक्रेटरी ने भी 15 मई को हिदायत जारी कर कहा था कि जनवरी से 10 मई के दरमियान तमाम राशन डीलरों की फूड तक़सीम रजिस्टर की ज़िरॉक्स कॉपी मुतल्लिक़ डीसी के दफ्तर में जमा करनी है। इनकी जांच डीसी की तरफ से तकर्रुर अफसरों की टीम को करनी थी। यह भी वाजेह किया गया था कि इस टीम में फूड सप्लाय महकमा के ओहदेदार शामिल नहीं रहेंगे। पर इन हिदायतों का पालन नहीं किया गया है।

वज़ीर सरयू राय ने अपने खत में महकमा सेक्रेटरी से कहा है कि इन हिदायतों के खिलाफवर्जी से मुतल्लिक़ जानकारी हासिल करें। अफसरों ने इसे कितनी संजीदगी से लिया है, इसकी रिपोर्ट तैयार करें। रिपोर्ट के अनुपालन करायें। ऐसा नहीं करने पर सरकारी निजाम कमजोर होगी। इससे न सिर्फ फूड सप्लाय महकमा, बल्कि दीगर महकमा की मंसूबों को लागू करना दिक़्क़त होगा। उन्होंने लिखा है कि राशन कार्ड बनाने में हुई भारी गड़बड़ी आम लोगों के दरमियान यकीन न रहने की वजह बन रही है। इसे ठीक करने के लिए भी जिला इंतेजामिया को वाजेह हिदायत दिया जाये। महकमा सेक्रेटरी जिला सप्लाय ओहदेदारों व दीगर को इसके लिए हुक्म दें।

TOPPOPULARRECENT