Saturday , December 16 2017

फेल हो गई मोदी सरकार की नोटबंदी?

नई दिल्ली। भारत में नोटबंदी के बाद मोदी सरकार का दावा था कि इससे काला धन बर्बाद हो जायेगा। लेकिन काला धन रखने वाले भारत सरकार के अनुमान से कहीं ज्यादा तेज़ और आगे निकले। भारत सरकार शायद भारत में होने वाले जुगाड़ का सही अंदाज़ा नहीं लगा पाई। यही वजह रही कि पिछले कुछ दिनों में जिस तेजी से बैंकों में पुराने नोटों का भंडार भर रहा हैं, उससे भारत सरकार के दावे फ़ैल होते नज़र आ रहें हैं।

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक शनिवार शाम तक भारत के सभी बैंकों में 9.85 लाख करोड़ 500 और 1000 के नोटों के रूप में जमा हुए है। जबकि अभी भी नोटबंदी के बाद मिला समय बाकी है। नोटबंदी के बाद केंद्र सरकार का मानना था कि करीब 3 लाख करोड़ रुपये का काला धन बैंकों में आ ही नहीं पायेगा, क्यूंकि भारत सरकार इतना काला धन 500 और 1000 के नोटों कि शकल में मान रहीं थी। जिस रफ्तार से बैंकों में पैसा आ रहा है और जमा हो रहा है उससे भारत सरकार के दावे खोखले होते नज़र आ रहें है। जबकि 30 दिसंबर तक पुराने नोटों को जमा कराया जा सकता है। जिससे भारत सरकार के अनुमान पर पलीता लगता नज़र आ रहा है।

काले धन को सफेद करने का निकाला रास्ता

जानकारी के मुताबिक सरकार को उम्मीद थी कि 14.6 लाख करोड़ रूपए जो की 500 और 1000 के नोटों में थे उनमे से 10 फीसदी बैंकों में जमा नहीं होगा। हालांकि भारत सरकार ने हर दिन रूल बदलकर काला धन रखने वालों को थोड़ा सोचने पर मजबूर ज़रूर किया। लेकिन भारत में जुगाड़ बहुत फेमस है और काला धन वालों ने सरकार की इस तरकीब का हल भी निकाल लिया। ये ज़रूर हुआ है कि उनको शेयरिंग पर पैसे बदलवाने में थोडा नुकसान हुआ, लेकिन सरकार की उम्मीदों पर तो पानी फिर ही गया। अब देखना यह है कि भारत सरकार क्या नया कदम उठाती है।

TOPPOPULARRECENT