फेसबुक और ट्विटर को लेकर चुनाव आयोग के 9 अहम निर्देश आप को जरूर जानना चाहिये !

फेसबुक और ट्विटर को लेकर चुनाव आयोग के 9 अहम निर्देश आप को जरूर जानना चाहिये !

2019 के चुनावी महासमर का शंखनाद हो चुका है। चुनाव आयोग ने रविवार शाम को लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया और इसी के साथ देशभर में आदर्श आचार संहिता लागू हो गई। चुनाव की तारीखों का ऐलान करते हुए चुनाव आयोग ने बताया कि लोकसभा चुनाव सात चरणों में होगा और पहले चरण के तहत 11 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे।

19 मई को अंतिम चरण का मतदान होगा और 23 मई को चुनाव के नतीजे घोषित कर दिए जाएंगे। चुनाव आयोग ने पहली बार राजनीतिक दलों और उम्मीदवारों की सोशल मीडिया गतिविधियों को लेकर कड़े दिशा-निर्देश जारी किए हैं। चुनाव आयोग के निर्देशों के मुताबिक, फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर अकाउंट से जुड़ी ऐसी 9 बातें निर्धारित की गई हैं, जिनका पालन लोकसभा का चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों और राजनीतिक दलों को अनिवार्य तौर पर करना होगा। सोशल अकाउंट का देना होगा ब्यौरा

1:- लोकसभा का चुनाव लड़ने वाले सभी उम्मीदवारों को नामांकन दाखिल करते समय अपने फेसबुक और ट्विटर अकाउंट का विवरण चुनाव आयोग को देना होगा।

2:- राजनीतिक दलों या उम्मीदवारों की तरफ से फेसबुक या ट्विटर पर पोस्ट किए जाने वाले किसी भी राजनीतिक विज्ञापन को पूर्व-प्रमाणित कराना अनिवार्य होगा।

3:- कोई भी ऐसा राजनीतिक विज्ञापन, जो सत्यापित नहीं कराया गया है गूगल, फेसबुक, ट्विटर या यूट्यूब पर पोस्ट नहीं किया जा सकता।

4:- लोकसभा का चुनाव लड़ रहे सभी उम्मीदवारों को अपने संपूर्ण चुनाव खर्च में सोशल मीडिया विज्ञापन पर किए गए खर्चों को भी शामिल करना होगा

5:- कोई भी राजनीतिक दल या लोकसभा का चुनाव लड़ने वाला उम्मीदवार अपने प्रचार अभियान के लिए सोशल मीडिया पर सेना या सुरक्षाबलों के जवानों की तस्वीरें डिस्प्ले नहीं कर सकता।

6:- अगर कोई प्रत्याशी या राजनीतिक दल सोशल मीडिया के नियमों का किसी भी तरह से उल्लंघन करता है तो उसकी शिकायतों के लिए एक शिकायत अधिकारी नियुक्त किया गया है। व्हाट्सएप को लेकर कोई निर्देश नहीं

7:- किसी भी तरह का भड़काऊ भाषण या फेक न्यूज सोशल मीडिया पर पोस्ट नहीं की जाएगी। ऐसा करने वालों पर फेसबुक, ट्विटर और गूगल ने कार्रवाई करने का वादा किया है।

8:- राजनीतिक दलों या लोकसभा का चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों की तरफ से फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर पोस्ट किए जाने वाले सभी राजनीतिक विज्ञापनों को विशेष रूप से आईटी के दिग्गजों के जरिए हाइलाइट किया जाएगा।

9:- चुनाव आयोग की तरफ से राजनीतिक दलों और लोकसभा प्रत्याशियों के लिए व्हाट्सएप से संबंधित कोई विशेष दिशानिर्देश

जारी नहीं किए गए हैं। ये भी पढ़ें-सर्वे: बदले यूपी के समीकरण, भाजपा के NDA को 12 सीटों पर मिली बढ़त 7 चरणों के चुनाव की अहम तारीखें आपको बता दें कि रविवार को चुनाव आयोग ने दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान किया। चुनाव आयोग के मुताबिक आगामी लोकसभा चुनाव सात चरणों में होंगे। पहला चरण का मतदान 11 अप्रैल, दूसरे चरण का मतदान 18 अप्रैल, तीसरे चरण का मतदान 23 अप्रैल, चौथे चरण का मतदान 29 अप्रैल, पांचवें चरण का मतदान 6 मई, छठें चरण का मतदान 12 मई और सातवें चरण का मतदान 19 मई को होगा। 23 मई को मतगणना की जाएगी। लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ ही देश में आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है। चुनाव आयोग ने बताया कि इस बार सभी बूथों पर वीवीपैट मशीन के जरिए मतदान कराया जाएगा

Top Stories