फोन आने पर गाड़ी लेकर गया था, सुबह शव मिला, लड़की के साथ प्रेम प्रसंग का मामला

फोन आने पर गाड़ी लेकर गया था, सुबह शव मिला, लड़की के साथ प्रेम प्रसंग का मामला

कोटा – प्रेम प्रसंग के चलते गुरुवार रात को कस्बे के मंशापूर्ण बालाजी रोड निवासी एक युवक को धोखे से बुलाया और मारुति वैन में बिठाकर सुनसान जगह ले जाकर उसे इतना पीटा कि उसके प्राण निकल गए। शुक्रवार सुबह ग्रामीणों की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची।

मृतक के हाथ पर गुदे नाम के आधार पर उसकी शिनाख्त की गई
सुबह तो पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया था, लेकिन अनुसंधान में आठ व्यक्तियों द्वारा वारदात को अंजाम देने की बात सामने आई। इस पर चार नामजद व चार अन्य लोगों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया गया। पुलिस ने शाम तक हत्या का खुलासा करते हुए 2 आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया।
एसपी राममूर्ति जोशी ने बताया कि थाना रटलाई पर सुबह सूचना प्राप्त हुई कि रघुनाथपुरा से टेकली जाने वाली कच्ची गडार पर पहाड़ी के पास खेत में अज्ञात व्यक्ति की लाश पड़ी हुई है। इस पर एएसपी राजेश यादव, डीएसपी विजय शंकर शर्मा, रटलाई एसएचओ राजू उदयवाल, बकानी एसएचओ मनसीराम मौके पर पहुंचे। यहां व्यक्ति की लाश अर्द्धनग्न अवस्था में पड़ी हुई थी।

उसके शरीर पर चोटों के निशान थे
मृतक की शिनाख्त उसके छोटे भाई संजय ने राकेश कुमार तैली के रूप में की। एफएसएल टीम को मौके पर बुलाकर घटनास्थल का निरीक्षण करवाया गया। इसके बाद मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाया गया। आरोपियों की तलाश में रटलाई व बकानी एसएचओ के नेतृत्व में टीम बनाकर भेजी गई।

इस दौरान मृतक युवक के प्रेम प्रसंग की बात सामने आई। इस बिन्दु को दृष्टिगत रखते हुए अभियुक्तों की तलाश की गई। लड़की के परिजन घर से फरार मिले। इस पर उन पर और अधिक शक होने पर उन्हें गम्भीरता के साथ व तकनीकी मदद लेकर 24 से अधिक संदिग्ध लोगों से पूछताछ की गई। महज 8 घंटे में हत्या की वारदात का खुलासा कर दो अारोपियों को बैरागढ़ के जंगल से गिरफ्तार किया। इनसे गहनता से पूछताछ की गई तो आरोपियों ने जुर्म कबूल लिया।

हत्या के 2 आरोपी गिरफ्तार…दोनों ने जुर्म कबूल करते हुए पूरी घटना बताई 
रटलाई निवासी मृतक राकेश कुमार पुत्र बाबूलाल तैली का रघुनाथपुरा की एक लड़की के साथ प्रेम प्रसंग था। इसका लड़की के परिवारजनों को पता चल गया। उन्होंने दोनों को साथ भी देखा था। इस पर आरोपी जो कि मृतक राकेश कुमार को पहले से जानते थे तथा वह ड्राइवर का काम करता था, यह भी जानते थे। इस पर धोखे से गाड़ी झालावाड़ भेजने के बहाने से रटलाई के गायत्री मंदिर चौराहा के पास बुलाया तथा अपनी मारुति ऑमनी कार में जबरदस्ती बैठाकर रघुनाथपुरा के पंप हाउस के पास जंगल में ले गए।

यहां पर लोहे की रॉड, पाइप, लकड़ियों से मारपीट की, जिससे राकेश कुमार की मृत्यु हो गई। राकेश कुमार के कपड़े, जूते व मोबाइल को अारोपी पहचान छुपाने के उद्देश्य से लेकर चले गए तथा दूसरा नेकर पहनाकर लाश को शिवनारायण लोधा के खेत में पटक कर चले गए। घटना में रोडूलाल लोधा, बद्रीलाल लोधा, जगदीश लोधा, बदेसिंह उर्फ विजयसिंह लोधा तथा चार अन्य अभियुक्त घटना में सम्मलित रहे। पुलिस ने रोडूलाल लोधा व बद्रीलाल को गिरफ्तार कर लिया।

फोन आने पर गाड़ी लेकर गया था, सुबह शव मिला
मृतक के भाई संजय कुमार ने पुलिस को दी रिपोर्ट में बताया कि परिवार में बड़ा भाई राकेश कुमार ड्राइवरी करता है। करीब 2 साल ढाई महीने से तूफान सिंह गुर्जर निवासी गुराड़खेड़ा की पिकअप पर ड्राइवरी करता था, लेकिन तूफान सिंह के पैसे नहीं देने से 5-6 माह से गाड़ी छोड़ दी थी व बीच-बीच मे तूफान सिंह के जरूरत पड़ने पर मेरे बड़े भाई राकेश को बुला लेता था। अभी 15-20 दिन से वह तूफान सिंह की पिकअप ही चला रहा था। उसकी गाड़ी अक्सर लहसुन-प्याज पर ही चलती है।

18 जून की रात 9 बजे तूफान सिंह का टेलीफोन भाई राकेश के पास आया था। उस समय फोन चार्ज पर लग रहा था, जिसको उसकी बहन पूजा ने उठाया व बात की। पूजा ने बताया कि राकेश अभी यहां नही है। मैं आते ही बात करवा दूंगी। उसके 15 मिनट बाद ही राकेश घर आ गया। पूजा ने उसे बताया कि तूफान सिंह का टेलीफोन आया है। मेरा भाई राकेश कुमार मेरी मां से गाड़ी चलाने की कहकर निकला था। शुक्रवार सुबह दोस्त कालू गोपाल तीनों ही गाड़ी लेकर रघुनाथपुरा गायों की घाटी के पास शिवनारायण लोधा टेकली वाले के खेत पर आए, जहां पर राकेश कुमार की लाश कुएं के पास खेत में पड़ी मिली।

Top Stories