Sunday , December 17 2017

बंगलादेश में बहरी जहाज़ ग़र्क़ाब, 32 हलाक , 200 लापता

हालिया अर्सा के दौरान अब तक के बदतरीन सानेहा में तकरीबन 32 अफ़राद बिशमोल ख्वातीन और बच्चे उस वक़्त हलाक हो गए जब एक बहरी जहाज़ जिसमें 300 मुसाफ़िर सवार थे, नदी में ग़र्क़ाब हो गई। तकरीबन 200 अफ़राद हनूज़ लापता है। ये अफ़सोसनाक हादसा वसती बंग

हालिया अर्सा के दौरान अब तक के बदतरीन सानेहा में तकरीबन 32 अफ़राद बिशमोल ख्वातीन और बच्चे उस वक़्त हलाक हो गए जब एक बहरी जहाज़ जिसमें 300 मुसाफ़िर सवार थे, नदी में ग़र्क़ाब हो गई। तकरीबन 200 अफ़राद हनूज़ लापता है। ये अफ़सोसनाक हादसा वसती बंगलादेश में उस वक़्त पेश आया जब कश्ती एक ऑयल टैंकर से मुतसादिम हो गई ।

सुप्रीटेंडेंट पुलिस तारिक़ उल-इस्लाम ने कहा कि ग़ोता ख़ोरों ने 32 नाशें बरामद की हैं जिनमें पाँच ख्वातीन और तीन बच्चे शामिल हैं । राहत कारी हुक्काम और बहरीया के ग़ोता ख़ोरों ने इस ग़र्क़ाब कश्ती को निकालने की कई घंटे कोशिश की ताकि फंसे हुए मुसाफिरेन को बचाया जा सके।

ज़राए इबलाग़ की इत्तेलात में कहा गया है कि ये मुसाफिरैन की कश्ती थी जबकि वज़ीर जहाज़ रानी शाह जहां ख़ान ने कहा कि ये तिजारती‍ ओ‍ मुसाफिरैन की कश्ती थी जिसमें ढाका के सदर घाट टर्मीनल से रेति और मिर्च भी ले जाई जाती थी। ये कश्ती तकरीबन 3.00 बजे सुबह सदर घाट टर्मीनल से मग़रिबी शरीयत पर जा रही थी कि ऑयल टैंकर से टकराकर डूब गई ।

बताया जाता है कि मज़ीद कई मुसाफिरैन अब भी इस कश्ती में फंसे हुए है और कश्ती को तोड़ कर उन्हें निकालने की कोशिश जारी है। वज़ीर मौसूफ़ ने कहा कि कई अफ़राद जो फंसे हुए है उनकी हलाकत का अंदेशा है ताहम इस कश्ती को सतह आब पर लाने के बाद ही हक़ीक़ी तादाद के बारे में कुछ कहा जा सकता है ।

उन्होंने बताया कि तहकीकात के बाद बहरी जहाज़ के मालकीयन के ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाएगी । तकरीबन 50 मुसाफिरैन हादसा के बाद तैरते हुए किनारा पर आ गए जिन्हें करीबी माही गीरों की कश्तियों के ज़रीया बचा लिया गया था । ये हादसा मेघना नदी में पेश आया जो जुनूबी ढाका से 32 किलो दूर वाक़्य ( स्थित) है।

TOPPOPULARRECENT