Sunday , September 23 2018

बंगला देश के वज़ीर रेलवे सबकदोश

बंगला देश के रेलवे वज़ीर सरन जीत सेन गुप्ता ने वज़ीर-ए-आज़म हसीना वाजिद से मुलाक़ात के बाद पीर को प्रेस कान्फ्रेंस में वज़ारत रेलवे से अपनी सुबकदोशी का ऐलान कर दिया है। उन्होंने अपना इस्तीफ़ा रिश्वत सतानी के इस सकैंडल की बिना पर दिया

बंगला देश के रेलवे वज़ीर सरन जीत सेन गुप्ता ने वज़ीर-ए-आज़म हसीना वाजिद से मुलाक़ात के बाद पीर को प्रेस कान्फ्रेंस में वज़ारत रेलवे से अपनी सुबकदोशी का ऐलान कर दिया है। उन्होंने अपना इस्तीफ़ा रिश्वत सतानी के इस सकैंडल की बिना पर दिया है जिस में इन का पर्सनल सेक्रेटरी और दो हुक्काम सत्तर लाख टिका (6हज़ार डालर) नक़द रिश्वत लेने में मुलव्वस हैं।सरन जीत सेन गुप्ता ने इस इल्ज़ाम की तरदीद की कि ये रक़म सरकारी मिल्कियत बंगला देश रेलवे में मुलाज़मत के हुसूल के ख़ाहां अफ़राद से रिश्वत के तौर पर वसूल की गई है ताहम उन्होंने कहा कि वो जमहूरीयत के फ़रोग़ की ख़ातिर मुस्ताफ़ी हो रहे हैं। सेन गुप्ता ने जो एक मुमताज़ सियास्तदान और वकील हैं , प्रेस कान्फ्रेंस से ख़िताब करते हुए कहा कि उन के इस्तीफ़ा से इल्ज़ामात की मुकम्मल तहक़ीक़ात में मदद मिलेगी ।

उन्होंने कहा कि अगर मैं ना भी मुलव्वस होता तो इस के बावजूद मैं मुस्ताफ़ी हो जाता , कई लोगों का ख़्याल है कि अगर मैं अपने ओहदे पर क़ायम रहता तो इस से तहक़ीक़ात पर असर अंदाज़ हो सकता था। उन्हों ने अपना इस्तीफ़ा अपने पर्सनल सेक्रेटरी और दो रेलवे हुक्काम की गुज़शता हफ़्ते गिरफ़्तारी के बाद ढाका के एक नियम फ़ौजी कैंप में नज़र किए जाने के बाद दिया है।

इन के हमराह वो रक़म भी है जवान से एक मिनी वैन में से बरामद हुई है इन तीनों ने बताया कि वो ये रक़म लेकर सेन गुप्ता के घर जा रहे हैं इस वाक़्या की वजह से वज़ीर-ए-आज़म हसीना वाजिद की हुकूमत को परेशानी लाहक़ हो गई। जिन्होंने तुर्की के दौरे से वापसी के बाद सेन गुप्ता को अपने दफ़्तर में तलब कर लिया।

ग़िज़ाई अजनास की क़ीमतों में इज़ाफे़ , बिजली के रियायती नर्ख़ों में कमी और रिश्वत सतानी के मुतअद्दिद इल्ज़ामात की वजह से शेख़ हसीना वाजिद की हुकूमत की मक़बूलियत में कमी आई है । बंगला देश में आइन्दा क़ौमी इंतिख़ाबात2014 के अवाइल में मुतवक़्क़े हैं

TOPPOPULARRECENT