Monday , December 18 2017

बंगला देश के ख़िलाफ़ 9-1की कामयाबी के बावजूद क़ौमी कोच मुतमइन नहीं

हिंदुस्तानी हाकी टीम ने एशिया कप के अपने ग्रुप मरहले के आख़िरी मुक़ाबले में भले ही बंगला देश को 9-1 गोल से मात‌ दी है लेकिन इसके बावजूद क़ौमी टीम के उबूरी कोच रीवलानट टीम के मुज़ाहिरों से मुतमइन नहीं।

हिंदुस्तानी हाकी टीम ने एशिया कप के अपने ग्रुप मरहले के आख़िरी मुक़ाबले में भले ही बंगला देश को 9-1 गोल से मात‌ दी है लेकिन इसके बावजूद क़ौमी टीम के उबूरी कोच रीवलानट टीम के मुज़ाहिरों से मुतमइन नहीं।

बंगला देश के ख़िलाफ़ पोल बी के आख़िरी मुक़ाबला में हिंदुस्तानी हाकी टीम में मौजूद पनालटी कॉर्नर के माहिर रूपेन्द्र पाल सिंह और वी आर रघूनाथ ने फी कस तीन गोल स्कोर किए और हिंदुस्तानी टीम ने हरीफ़ के ख़िलाफ़ 9-1 की कामयाबी हासिल की लेकिन इसके बावजूद मुक़ाबला के बाद मुनाक़िदा प्रैस कान्फ़्रेंस से ख़िताब करते हुए क़ौमी हाकी टीम के कोच ने कहा कि हमें आइन्दा मुक़ाबलों में अपने खेल के मेयार को मज़ीद बुलंद करना होगा।

उन्होंने मज़ीद कहा कि वो ये भी समझते हैं कि इस कामयाबी के बावजूद ख़ुद खिलाड़ी महसूस कररहे होंगे कि उन्हें अपने मुज़ाहिरों में मज़ीद बेहतरी की ज़रूरत है। क़ौमी कोच ने मज़ीद कहा कि वो मुक़ाबला के नतीजा पर ख़ुश ज़रूर हैं लेकिन खेल के बाअज़ शोबों में हनूज़ बेहतरी की ज़रूरत है।

कोच रीवलानट ने मज़ीद कहा कि जब टीम को ये हक़ीक़त मालूम होचुकी होती है कि उस की सेमीफाइनल में रसाई होचुकी है तो इस तरह के मुक़ाबले इस केलिए मुश्किल होते हैं। वाज़ह रहे कि बंगलादेश के ख़िलाफ़ हिंदुस्तान केलिए रूपेन्द्र ने मुक़ाबले के चौथे 19 वीं 27 वीं और 61 मिनट में गोल बनाए। जब कि रघूनाथ ने 29 वीं 52 वीं और 59 वीं मिनट में गोल स्कोर किए। नकन तमया ने 25 वीं मिनट में और मलक सिंह ने 47 वीं मिनट में हिंदुस्तान केलिए गोल किया।

TOPPOPULARRECENT