Sunday , December 17 2017

बंगाल को बचाने का संकल्प, कांग्रेस। वाम एकता का अनूठा प्रदर्शन, ममता और मोदी की आलोचना

कोलकाता: कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने राजनीतिक दोस्ती का शायद ही कभी किया जाने वाला अनूठा प्रदर्शन करते हुए आज सीपीआई (एम) के बुजुर्ग नेता और पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्ज के साथ एक ही शह नशीन पर सीट संभाली। इस अवसर पर दोनों दलों के उत्साही समर्थकों ने बंगाल को बचाने के लिए कांग्रेस और वामपंथी गठबंधन की स्थिरता के समर्थन में जबरदस्त नारे बाजी की।

एक ऐसे समय जब दोनों दलों के समर्थक गठबंधन के समर्थन में नारे बाजी कर रहे थे कि राहुल गांधी को भट्टाचार्ज हाथ थामकर बैठे हुए देख़े गए। भट्टाचार्ज ने जवाबी दिखाते हुए अपने संबोधन के दौरान अधिक से दो बार ‘प्यारे राहुल गांधी’ कहते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष का हवाला दिया। कांग्रेस। वामपंथी गठबंधन के वास्तुकार माने जाने वाले इन दोनों नेताओं को संयुक्त रूप से एक बहुत बड़ा फूलों का हार पहनाया गया।

भट्टाचार्ज ने सभा को प्रति वास्तविक रूप एक दुर्लभ घटना करार दिया और कहा कि ” बंगाल के लोग अब तक बहुत रैलियाँ देख चुके हैं लेकिन आज की रैली जहां राहुल के साथ खड़ा हूँ, वास्तव में इतिहास का एक अनोखी घटना है। कांग्रेस और सीपीएम‌ राष्ट्र रूप में संघर्ष कर रहे हैं। ” गठबंधन की जरूरत को उचित ठहराते हुए भट्टाचार्ज ने बताया कि ” हम एक साथ क्यों खड़े हैं? क्योंकि बंगाल को गंभीर खतरा है और हम सभी को बंगाल बचाने के लिए राष्ट्र संघर्ष करने की जरूरत है। ” भट्टाचार्ज और राहुल गांधी दोनों ही ने अपने हाथ लहराते उनके उत्साहित कार्यकर्ताओं के नारों का जवाब दिया जो ” तृणमूल विस्थापन, बंगला बचाओ ‘जैसे नारे लगा रहे थे।

सभा स्थल के विशाल मैदान के चारों ओर कांग्रेस ध्वज के साथ कम्युनिस्ट पार्टियों के लाल झंडे लहरा रहे थे और जगह जगह दोनों नेताओं के कद आदम चित्रों लगाए गए थे। राहुल गांधी ने अपने भाषण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि ये दोनों केवल झूठे वादे करते रहे और रिश्वत के खिलाफ अभी कोई कदम नहीं उठाया। राहुल और भट्टाचार्ज ने कांग्रेस। वामपंथी गठबंधन की सफलता का आश्वासन दिया।

TOPPOPULARRECENT