बंधक भारतीयों की रिहाई के लिए मदद की इच्छा

बंधक भारतीयों की रिहाई के लिए मदद की इच्छा
Click for full image

नई दिल्ली: भारत ने इराक युद्ध से प्रभावित मोसुल में दो साल पहले बंधक बनाए गए 39 भारतीय नागरिकों की सुरक्षित रिहाई के लिए मदद का अनुरोध किया है। मिनिस्टर ऑफ स्टेट विदेश एमजे अकबर ने आज राष्ट्रपति इराक फौद मासूम और अन्य प्रमुख नेताओं ने बगदाद में मिले ‘जहां विभिन्न मामलों सहित इस्लामिक स्टेट से खतरे के बारे में चर्चा की गई।

इराक तब आईएसओ से बुरी तरह प्रभावित है और उसने तेल समृद्ध देश के एक बड़े हिस्से पर कब्जा कर रखा है। बातचीत में आतंकवाद से निपटने के विभिन्न मामलों पर गोरोसुस किया गया और साथ ही साथ इस संकट का मुकाबला करने के लिए दोनों देशों ने एक दूसरे के साथ सहयोग का वचन दिया।

फौद मासूम अलावा एमजे अकबर ने राष्ट्रपति परिषद प्रतिनिधि सलीम अलजबवरी ‘प्रधानमंत्री इब्राहीम अलाशियख़र अलजिफ़्री और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार फ़ालह अल्फ़याज़ से भी मुलाकात की। एमजे अकबर ने उन 39 भारतीयों का पता चला और सुरक्षित रिहाई सुनिश्चित करने में मदद की इच्छा जिनका अपहरण कर लिया गया है। इराकी नेतृत्व ने इस मामले में पूरा सहयोग का आश्वासन दिया।

एमजे अकबर तीन दिवसीय दौरे पर कल बगदाद पहुंचे। वह इस समय तीन देशों लेबनान ‘सीरिया और इराक के दौरे पर हैं’ वे कर्बला भी जाएंगे। इस्लामी दुनिया में कर्बला सुविधा महत्व प्राप्त है और शिया उलमा ने इस यात्रा का स्वागत किया है। इससे पहले एक प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री से अनुरोध किया था कि वह अपनी यात्रा सिर्फ सऊदी अरब या सुनी बहुल देशों तक सीमित न रखें।

Top Stories