बंसल आत्महत्या काण्ड : अमित शाह के करीबी CBI अफसर पर हाथ डालने से डर रही है दिल्ली पुलिस

बंसल आत्महत्या काण्ड : अमित शाह के करीबी CBI अफसर पर हाथ डालने से डर रही है दिल्ली पुलिस
Click for full image

दिल्ली : कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव IAS अफसर बीके बंसल और उनके पूरे परिवार की खुदकुशी के मामले में जांच के महीने भर बाद भी दिल्ली पुलिस अभी तक कुछ नहीं कर सकी है. इस हैरतअंगेज मामले में शक के घेरे में आये CBI अफसरों के खिलाफ दिल्ली पुलिस चाह कर भी उनपर हाथ डालने की हिम्मत नहीं जुटा पा रही है. क्योंकि बीजेपी के राष्ट्रिय अध्यक्ष अमित शाह के नज़दीकी बताए जाने वाले सीबीआई के DIG संजीव गौतम से पूछताछ करने में पुलिस के हाथ पाँव फूल रहे हैं. यह भी माना जारहा है कि इस सामूहिक आत्महत्या की घटना को रफा दफा करने के लिए ऊपरी दबाव हैं.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

इंडिया संवाद के ख़बरों के मुताबिक, बीजेपी के राष्ट्रिय अध्यक्ष अमित शाह के नज़दीकी बताए जाने वाले सीबीआई के DIG संजीव गौतम से पूछताछ करने में पुलिस अपने आपको बेबस महसूस कर रही है. जबकि खुदकुशी करने से पहले अपने सुसाइड नोट में बीके बंसल ने खुलासा किया था कि डीआईजी संजीव गौतम अमित शाह के करीबी आदमी है. सुसाइड नोट में बंसल ने यह भी लिखा था कि गौतम और उनकी टीम के सदस्यों ने उनकी पत्नी और बेटी को प्रताड़ित किया, जिससे उन्होंने आत्महत्या कर ली.
मामले को दबाने की कोशिश कर रही एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी की दलील है की अब तक की जांच में बंसल की पत्नी और उनकी बेटी को CBI की अफसरों के हाथों प्रताड़ित करने का कोई साक्ष्य नहीं मिला है. इसलिए बगैर कोई ठोस सबूत के केवल इस सुसाइड नोट के आधार पर CBI के खिलाफ 306 IPC का मुकदमा दर्ज नहीं किया जा सकता. हालांकि CBI अपने अधिकारियों की विभागीय जांच करा सकती है.
आपको बता दें कि कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव बीके बंसल एक ऐसी कम्पनी से उलझ गये थे जिसके मालिक के अमित शाह से पुराने संबध थे. इसलिए इस बात की पूरी संभावना है कि अमित शाह ने ही गौतम की पोस्टिंग चंडीगढ़ से दिल्ली करवाई थी, इसलिए इस मामले में गौतम खास दिलचस्पी ले रहे थे.
गौरतलब है कि रिश्वतखोरी के आरोप में घिरे कॉरपोरेट अफेयर के पूर्व डीजी बीके बंसल के घर से पुलिस ने सुसाइड नोट के चार सेट बरामद किए हैं. जिसमें उन्होंने सीबीआई पर उत्पीड़न के गंभीर आरोप लगाए हैं. जिसके बाद सीबीआई के कुछ अधिकारी भी जांच के दायरे में आ गए थे और दिल्ली पुलिस सुसाइड नोट के तथ्यों की जांच कर रही थी.

Top Stories