Saturday , December 16 2017

बकरा-ईद पर जानवरों की क़ुर्बानी को अमानवीय और असंवैधानिक घोषित करे सुप्रीम कोर्ट !

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई एक जनहित याचिका में कहा गया है कि  बकर-ईद (ईद-उल-अज़हा) पर जानवरों की कुरबानी को पशु क्रूरता निवारण अधिनियम की वैधता को सिर्फ मज़हब के आधार पर सही नहीं ठहराया जा सकता है ये पूरी तरह अमानवीय है |
उत्तर प्रदेश के सात लोगो की और से दाख़िल इस याचिका में मांग की गयी है कि कोर्ट आने वाले दिनों में ये सुनिश्चित करे कि बकर-ईद के मौक़े पर किसी जानवर की क़ुर्बानी नहीं दी जाएगी | याचिका में कहा गया है कि बकर-ईद के मौक़े पर किसी जानवर की क़ुर्बानी  पूरी असंवैधानिक तरह है |

Facebook पर हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें

वकील विष्णु शंकर जैन के माध्यम से दायर की गयी याचिका में पशु क्रूरता निवारण अधिनियम की धारा 28 की संवैधानिक वैधता को चुनौती देते हुए कहा गया है कि किसी भी समुदाय अथवा धर्म के नाम पर जानवरों की हत्या को सही नहीं ठहराया जा सकता है |उन्होंने मांग की कि कोर्ट पशु क्रूरता निवारण अधिनियम की धारा 28 को असंवैधानिक घोषित करे |

TOPPOPULARRECENT