Thursday , August 16 2018

बगैर हिसाब के जन्नत

हजरत अबू अमामा रज़ी अल्लाहु तआला अन्हो से रिवायत है के, रसूल-ए-पाक (स०) फरमाया, मेरे रब ने मुझ से वादा फरमाया है के, मेरी उम्मत की कसीर (जियादा) तादाद को किसी हिसाब वो अज़ाब के बगैर जन्नत में दाखिल करेगा। (मिश्कात)

TOPPOPULARRECENT