Friday , September 21 2018

बर्क़ी शरहों में इज़ाफ़ा सारिफ़ीन और सनअती शोबे पर बोझ : सी आई आई

हैदराबाद 09 जनवरी :बर्क़ी शरहों में इज़ाफे की तजवीज़ सारिफ़ीन और सनअती शोबे पर ग़ैरमामूली बोझ साबित होगी। आंध्र प्रदेश चिया पटर आफ़ कॉन्फैडरेशन आफ़ इंडियन इंडस्ट्री (सी आई आई) ने आज ये बात कही।

हैदराबाद 09 जनवरी :बर्क़ी शरहों में इज़ाफे की तजवीज़ सारिफ़ीन और सनअती शोबे पर ग़ैरमामूली बोझ साबित होगी। आंध्र प्रदेश चिया पटर आफ़ कॉन्फैडरेशन आफ़ इंडियन इंडस्ट्री (सी आई आई) ने आज ये बात कही।

सदर नशीन सुचित्रा के एला ने कहा कि इज़ाफे के नतीजे में छोटे पैमाने की सनअतों पर 607 करोड़ रुपये और बड़े पैमाना की सनअतों पर 4,728 करोड़ रुपये का इज़ाफ़ी बोझ आइद होगा।

उन्हों ने कहा कि रियासत में सनअतें पहले ही बर्क़ी क़िल्लत से दो-चार हैं। एसे में बर्क़ी शरहों में इज़ाफ़ा उन पर बोझ साबित होगा। उन्हों ने कहा कि इस इज़ाफे के नतीजे में सनअती पैदावार की लागत भी बढ़ जाएगी और फिर आंध्र प्रदेश दीगर रियास्तों से मुसाबक़त में पीछे होसकता है।

सुचित्रा ने कहा कि हुकूमत ने ये फ़ैसला एसे वक़्त किया जबके सनअती शोबा पहले ही फ़्यूल सरचार्ज एडजेसटमनट (एफ़ एसए) और आलमी मआशी सुस्त रवी के असरात से मुश्किलात का सामना कररहा है।

उन्हों ने कहा कि सनअती शोबा अक़ल्ल तरीन पैदावार की तलब को भी महिज़ बर्क़ी कटौती और सनअतों के लिए दोता तीन दिन तातील की वजहे से पैदावार पूरी नहीं करपारहा है।

अगर हुकूमत ऐसे हालात में बर्क़ी शरहों में इज़ाफ़ा करती है तो ये नाक़ाबिल-ए-बर्दाश्त बोझ होगा।

TOPPOPULARRECENT