Thursday , December 14 2017

बलूचिस्तान के मसले पर भारत को धमकाया पाक, कहा माओवाद व खालिस्तान का मुद्दा उठाएंगे

अमेरिका : अमेरिका के स्टीम्सन सेंटर में अपनी बात रखते हुए नवाज शरीफ विशेष दूत मुशाहिद हुसैन सैयद ने कहा कि अगर भारत बलूचिस्तान का मुद्दा उठाना बंद नहीं करता है, तो पाकिस्तान ‘खालिस्तान, नागालैंड, त्रिपुरा, असम, सिक्किम और माओवाद विद्रोह का जिक्र कर’ जवाब दे सकता है। कश्मीर मुद्दे पर समर्थन जुटाने के लिए अमेरिका गए पाकिस्तान के दो विशेष उच्चायुक्तों ने बलूचिस्तान के मसले पर भारत को धमकाया है। दोनों उच्चायुक्तों से वॉशिंगटन डीसी में आतंक को समर्थन देने, परमाणु हमले की धमकी और पाकिस्तान के एक राष्ट्र राज्य के रूप में असफल होने को लेकर तीखे सवाल पूछे गए।

दोनों उच्चायुक्तों ने अमेरिका से कश्मीर मुद्दे पर हस्तक्षेप करने की मांग करते हुए कहा कि अगर ऐसा नहीं होता है, तो पाकिस्तान, अफगानिस्तान में भारत और अमेरिका के प्रयासों को अस्थिर कर काबुल में शांति के प्रयासों पर पानी फेर देगा। स्टीम्सन सेंटर में उपस्थित भीड़ को संबोधित करते हुए कश्मीर मसले पर प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विशेष दूत मुशाहिद हुसैन सैयद ने कहा, ‘जब आप शांति की बात करते हैं, तो काबुल में शांति का रास्ता कश्मीर से जुड़ता है। आप शांति को बांट नहीं सकते, एक भाग को अलग नहीं कर सकते। आप काबुल में शांति चाह सकते हैं, लेकिन कश्मीर को जलते नहीं छोड़ सकते.. ऐसा नहीं हो सकता।’

सैयद के साथी शेजरा मनसब ने परमाणु हथियारों की धौंस दिखाते हुए कहा कि ‘इस समय हमारे लिए महत्वपूर्ण मसला कश्मीर है और इस क्षेत्र में कोई शांति स्थापित नहीं हो सकती अगर यह मुद्दा हल नहीं होता है।’ भारत और पाकिस्तान के परमाणु शक्ति संपन्न होने की स्थिति में इस मुद्दे का हल होना जरूरी है। हालांकि कश्मीर मुद्दे पर अमेरिकी हस्तक्षेप के लिए पाकिस्तान के प्रयासों को कुछ खास सफलता नहीं मिली और इसके बाद नवाज शरीफ के ‘दूतों’ ने धमकी और ब्लैकमेलिंग का खेल खेलना शुरू कर दिया।

TOPPOPULARRECENT