Wednesday , September 19 2018

बशारुल असद का दौर-ए-इक़तिदार (हुकूमत)ख़त्म होने के क़रीब

शाम में हिज़्ब-ए-मुख़ालिफ़ के नए रहनुमा अबदुल बासित का कहना है कि सदर बशारुल असद का दौर-ए-इक़तिदार (हुकूमत) ख़ातमे के क़रीब है। इन का कहना था कि शाम में होने वाले हालिया क़तल-ए आम और बमबारी के वाक़ियात से ज़ाहिर होता है कि हुकूमत और इ

शाम में हिज़्ब-ए-मुख़ालिफ़ के नए रहनुमा अबदुल बासित का कहना है कि सदर बशारुल असद का दौर-ए-इक़तिदार (हुकूमत) ख़ातमे के क़रीब है। इन का कहना था कि शाम में होने वाले हालिया क़तल-ए आम और बमबारी के वाक़ियात से ज़ाहिर होता है कि हुकूमत और इस की फ़ौज को किस क़दर मुज़ाहमत का सामना है।

हिज़्ब-ए-मुख़ालिफ़(अपोजीशन ) के रहनुमा अबदुल बासित स्वीडन में मुक़ीम हैं और उन्हें तुर्की में होने वाले शामी कौंसल के एक इजलास में हिज़्ब-ए-इख़तिलाफ़ की तहरीक का नया सदर मुंतख़ब किया गया।उन्हों ने कहा कि वो इस तहरीक की तंज़ीम नौ(नया) करके उसे मुत्तहिद करेंगे।

सीरईन नैशनल कौंसल में अंदरूनी इख़तिलाफ़ात पाए जाते हैं और ये शाम में मौजूद बाग़ी ग्रुपस के साथ मज़बूत रवाबित क़ायम करने में नाकाम रही है।

TOPPOPULARRECENT